संस्करण: अक्टूबर- 2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


जरा केजरीवाल और सिसोदिया को जान लें....

            कुल मिलाकर दो बार। पहली बार एक लाख बहत्तर हजार डॉलर। और दूसरी बार एक लाख सत्तानवे हजार डॉलर। दोनों को जोड़कर देखें तो कुल मिलाकर तीन लाख उनहत्तर हजार डॉलर। एक डॉलर यानी आज की तारीख में हमारे हिंदुस्तान के 46 रुपए। 3 लाख 69 हजार डॉलर को भारतीय मुद्रा में आज के हिसाब से तब्दील करके देखें तो कुल एक करोड़ 69 लाख 74 हजार रुपए। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को चुनौती देने वाले आंदोलन के बाद, आपकी जानकारी के लिए कम से कम अब तो यह बताना जरूरी हो गया है कि .......

  ? निरंजन परिहार  

(लेखक निरंजर परिहार राजनीतिक विश्लेषक और वरिष्ठ पत्रकार हैं)


अन्ना आंदोलन से फायदा कम,

नुकसान ज्यादा हुआ !

     ज अन्ना का मतलब एक अद्भुत व्यक्ति, एक मसीहा, एक युग प्रवर्तक और एक युग दृष्टा है, आज अन्ना कहलाना गर्व की बा तहै और हर व्यक्ति यह कह कर अपने आप को गौरवान्वित महसूस करता है कि मैं अन्ना सोचने और कर सकने की दृष्टि से बहुत आगे सोच सकने और कर दिखाने वाले व्यक्ति से है। एक ऐसा व्यक्ति जिसने सरकार की चूलें हिला दीं, जिसने पूरे सरकार को बेचैन कर दिया, जिसने जनता को नयी आवाज़ दी।

? अमिताभ  

(लेखक अमिताभ आईपीएस अधिकारी हैं, इन दिनों मेरठ में पदस्थ हैं)


साम्प्रदायिकता को मोदी विरोध तक

केन्द्रित कर देने के खतरे

      ब से श्री नरेन्द्र मोदी ने जय श्री राम को याद करने की जगह 'गाड इस ग्रेट' कहते हुए उपवास किया है तभी से उनके खिलाफ लेखों और टिप्पणियों की बाढ आ गयी है। उन्होंने अपनी परम प्रसन्नता में यह उपवास प्रदेश में सद्भावना के नाम पर तब किया जब 2002में गुजरात में हुए नरसंहार से सम्बन्धित प्रकरण को सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैसला करने के लिए लोअर कोर्ट में लौटा दिया। मोदी अपने समय के सबसे विवादास्पद मुख्यमंत्री हैं इसलिए उनके नाम पर देश में स्पष्ट विभाजन है।

? वीरेन्द्र जैन


नरेंद्र मोदी को प्रधान मंत्री बनाने के लिये

अमेरिका में डी.पी.सी.

    ब चारो तरफ से फजीहत हो रही हो, तब दिल को समझाने के लिये आत्ममुग्ध हो जाना सबसे अच्घ्छा तरीका है। इस आत्ममुग्धता के लिये कुछ छोटे छोटे बहाने चाहिये।  भाजपा को खुश होने के लिये एक बहाना तो संयोगवश मिल गया, नरेंद्र मोदी के बारे में सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश से और दूसरा बहाना एक सोची समझी चाल के तहत अमेरिका ने दे दिया। इन दोनों बहानों को ले कर भाजपा नेता फूले नहीं समा रहे हैं। अब इन खुशियों की बरसात करने वाले बहानों की वास्तविकता जान लीजिये। 

? मोकर्रम खान


मध्यप्रदेश में संक्रामक रूप

ले लिया है भ्रष्टाचार ने    

          क तरफ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चीन जाकर वहाँ के उद्योगपतियों को प्रदेश में पूँजी लगाने के लिए आमंत्रित करते हैं, वे चीन जाकर बताते हैं कि प्रदेश में औद्योगिकरण के लिए उपयुक्त वातावरण है वही दूसरी ओर कुछ ऐसी घटनाये हो जाती है जिनसे प्रदेश का छवि धूमिल होती है।

 ? एल.एस.हरदेनिया


भ्रष्टाचार में लिप्त शिवराज सरकार?

     ध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहारन आए दिन विभिन्न मंचों से भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़ फेंकने का ऐलान करते रहते हैं और उन्हीं की नाक के नीचे नौकरशाह भ्रष्टाचार को अंजाम देते रहते हैं। सरकार भ्रष्ट अफ़सरान के ख़िलाफ़ सख्त कदम उठाने का दंभ भरती है और भ्रष्टाचार के मामलों को दबाने में भी आगे रहती है। ऐसे एक नहीं, सैकड़ों उदाहरण हैं। लोकायुक्त और ईओडब्ल्यू द्वारा की गई जांच में भ्रष्टाचार के सैकड़ों मामले पाए गए, जिनमें सरकार से अभीवियोजन चलाने की अनुमति मांगी गई है और ये तमाम प्रकरण परीक्षण के नाम पर धूल खा रहे हैं।

? महेश बाग़ी


अमरीका से दोस्ती

पाकिस्तान के लिए बहुत भारी पड़ सकती है

       क्या अमरीका पाकिस्तान पर जल्द ही हमला करने वाला है ? यह सवाल पाकिस्तान के गली- कूचों  और टेलिविजन चैनलों के दफ्तरों में बहुत जोर शोर से  पूछा जा  रहा है । यही नहीं पाकिस्तानी हुक्मरान भी डरे हुए हैं कि कहीं अमरीका ने और सख्ती कर दी तो पाकिस्तान के लिए बहुत मुश्किल हो जायेगी। हक्कानी ग्रुप नाम के अफगान संगठन के पाकिस्तानी फौज और आई एस आई से रिश्तों के बारे में जब से अमरीकी फौज के आला अफसरों ने खुले आम बात करना शुरू कर दिया है ,तब से ही पाकिस्तान में अफरा तफरी का माहौल है ।

? शेष नारायण सिंह


कटघरे में निजी विश्वविद्यालय?

    क टीवी चैनल ने अपने आप में प्रतिष्ठित कही जाने वाली कुछ प्रायवेट युनिवर्सिटीयों के कर्ताधर्ताओं के मात्र तीन दिन में पीएचडी,बगैर कक्षाएॅ पढ़े एम.टेक और एम.फिल कराने के गोरखधंधे को अपने कैमरे में कैद कर इनकी विश्वसनीयता और गुणवत्ता को कटघरे में खड़ा कर दिया है। साथ ही लगातार खुल रहे निजी विश्वविद्यालयों की मान्यता पर भी सवाल खड़ा कर दिया है,तथा यह सिद्व कर दिया है कि ये संस्थान उच्चशिक्षा के प्रचार के नहीं बल्कि अपने मालिकों की तिजौरियॉ भरने के लिए खोले जा रहें है?

? डॉ. सुनील शर्मा


मुख्यमंत्री जी,

सिर्फ अभियान से नहीं बचेंगी बेटियां...

     माननीय,

               प्रदेश सरकार 'बेटी बचाओ अभियान'शुरू करने जा रही है। नवरात्रि में स्त्री स्वरूपा देवी की उपासना और कन्या-पूजन का पाखण्ड पर्व हम आदिकाल से मनाते आ रहे हैं। जबकि इसी के साथ स्त्री की प्रताड़ना और कोख में ही कन्या के कत्ल का सिलसिला बदस्तूर जारी है। सुना है,5अक्टूबर को सरकारी स्तर पर कन्या पूजन का पर्व आयोजित किया जाएगा। इसमें शासकीय मशीनरी, धन, ऊर्जा, श्रम एवं समय का दुरुपयोग सुनिश्चित है।

? डॉ. गीता गुप्त


  अक्टूबर-2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved