संस्करण: 3 नवम्बर- 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


राजनीति की वेदी पर इतिहास की बलि भारत में जातिप्रथा का उदय

     भारत में सामाजिक न्याय की राह में जातिप्रथा सबसे बड़ी और सबसे पुरानी बाधा रही है। यह प्रथा अभी भी सामाजिक प्रगति को बाधित कर रही है। जातिप्रथा का उदय कैसे, कब और क्यों हुआ, इस संबंध में कई अलग-अलग सिद्धांत हैं। इसी श्रृंखला में सबसे ताजा प्रयास है जातिप्रथा के लिए मुस्लिम बादशाहों के आक्रमण को दोशी बताना।

? राम पुनियानी


मन मैला और सफाई का संदेश

        हते हैं मन साफ होना चाहिए तन की सफाई में क्या रखा है। पुरातन काल में दिए गए इस संदेश के पीछे का दर्शन शायद यह रहा होगा कि लोग वातावरण की शुद्धता के साथ वैचारिक शुद्धता का भी ख्याल रखें, क्योंकि वातावरण की अशुद्धता को मिटाया जा सकता है, लेकिन विचार अशुद्ध हुए तो उसके दूरगामी परिणाम होते हैं। लेकिन आजकल गंगा उल्टी बह रही है। राजनीतिक शुद्धता का नारा लेकर दिल्ली की गद्दी तक पहुंची बीजेपी की चाल ढाल देखकर तो ऐसा ही लगता है।

?

विवेकानंद


हम सब हिन्दू ?

     राष्ट्रीय स्वयम् सेवक संघ ने लखनऊ मे हाल ही मे हुए अपने राष्ट्रीय अधिवेशन मे सबको हिन्दू बताया। कुछ दिनों पहले भी संघ प्रमुख मोहन भागवत जी की टिप्पणी आयी थी कि भारत में रहने वाले सभी लोग हिन्दू हैं। जो लोग संघ की राजनीति को जानते नहीं हैं तथा सामान्य सी समझ रखते हैं, उन्हें ये बात कुछ ढंग से समझ में नहीं आयी क्योंकि भारत में रहने वाले लोगों को भारतीय कहते हैं, ये हम काफी दिनों से पढ़ रहे हैं, ऐसे में ये नया शब्द हिन्दू क्यों प्रयोग किया जाये, ये समझ में नहीं आया।

 ? अखिल विकल्प


एजेंडा सामाजिक न्याय पर खिलाड़ी संघ

      पिछले दिनों लखनऊ में हुई आरएसएस की अखिल भारतीय केन्द्रीय कार्यकारी मण्डल की बैठक के पूर्व ही कोर कमेटी में उसके परिवारी संगठनों की तरफ से रहे एजेंडों ने साफ कर दिया था कि वो दलितों-पिछड़ों के साथ युवाओं को खास तरजीह देंगे। इसे सिर्फ हिन्दुत्वादी छवि के साथ लगे कट्रता के टैग को हटाने की प्रक्रिया से हटकर उसके समरसता जैसे अभियानों का कथित सामाजिक न्याय और सोषल इंजीनियरिंग की राजनीति करने वालों के बरक्स एक सुनियोजित संगठित रणनीति के रुप में देखने जरूरत है।

? राजीव यादव


जय हिंद से कौन डरता है?

           सेना में कार्यरत एक मुस्लिम धर्म शिक्षक सूबेदार इशरत अली को उनके आला अधिकारी मेजर ललित शेरंग द्वारा भेजी गई नोटिस पिछले दिनों मीडिया के एक छोटे से हिस्से में खासा चर्चित रही। इस नोटिस में उन्हें आदेश दिया गया था कि वे जय हिन्द के बजाय अब राम-राम और जय माता दी का संबोधन करें। नोटिस, जिसके खिलाफ इशरत की पत्नी शहनाज बानो ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को पत्र लिखकर शिकायत की है में कहा गया है कि चूंकि वे धार्मिक शिक्षक हैं जिनका काम देश भक्ति के जज्बे को बढ़ावा देना और जवानों में एकता का संदेश देना है इसलिए उन्हें जय हिन्द कहना छोड़ देना चाहिए।

  ?  शाहनवाज आलम


विधानसभा चुनाव परिणाम- क्या खोया क्या पाया

         दिनों हुये दो राज्यों के चुनाव परिणामों में कई नये रिकार्ड स्थापित हुये हैं, इनमें केवल पहली बार भाजपा को हरियाणा विधानसभा में स्पष्ट बहुमत मिला है अपितु वह महाराष्ट्र विधानसभा में सबसे बड़े दल के रूप में सामने आयी है।  इन चुनाव परिणामों के उपरोक्त रिकार्ड भंजन के बड़े बड़े बैनरों के पीछे दूसरे कई अन्य रिकार्ड भंजन छुप कर रह गये हैं। इन रिकार्ड भंजनों पर निगाह डालने पर इस चित्र का सही रंग सामने सकेगा।

? वीरेन्द्र जैन


पच्चीस वर्षों के बाद भी भागलपुर के दंगा पीडि़तों को न्याय नहीं मिला है

      से 25 वर्ष पहले आजादी के बाद देश का सबसे बड़ा सांप्रदायिक दंगा बिहार के शहर भागलपुर में हुआ था। यह वीभत्स दंगा 24 अक्टूबर 1989 से प्रारंभ होकर कई दिनों तक चला था। एक मोटे अंदाज के अनुसार इस दंगे में 3000 से ज्यादा लोग मारे गये थे। भागलपुर के बाद दंगों में मारे गये लोगों का सबसे बड़ा आंकड़ा गुजरात का है।

? एल.एस.हरदेनिया


आतंकवाद विरोध में अमेरिका: कितने छदम युद्ध लड़ोगे महारथी!

     क्या अमेरिकी सरकार द्वारा आतंकवाद पर निगरानी रखने के लिए जो प्रचण्ड सूची तैयार की गयी है, जिसका निरन्तर नूतनीकरण होता रहता है, उसमें दर्ज आधे नाम ऐसे लोगों के हैं जिनका किसी आतंकवादी समूह से कोई सम्बन्ध नहीं है ? इण्टरसेप्ट नामक न्यूजसाइट पर अगस्त माह में खोजी पत्रकारों जेरेमी शाहिल और रायन डेवेरू द्वारा वर्गीक्रत दस्तावेज के आधार पर प्रकाशित एक स्टोरी यही बयां करती है।

? सुभाष गाताड़े


नौकरी में बने रहने के लिए डिंब फ्रीजिंग - अभिशाप या वरदान !

        वेबसाइट की ख़बर के मुताबिक फेसबुक तथा एप्पल जैसी कम्पनियां अपनी महिला कर्मचारियों के सामने प्रस्ताव रख रही हैं कि यदि वे मां बनने की ख्वाहिश टाल सकती हैं तो कम्पनी उन्हें अच्छी खासी रकम देने को तैयार है। कंपनी ने कहा है कि वे अंडकोश फ्रीज करवा सकती हैं और बाद में उम्र अधिक होने पर भी वे मां बन सकती हैं। यह खर्चा कम्पनी उठाने को तैयार है। डिंब या अण्ड को फ्रीज करने के लिए लगभग 12 लाख खर्च करने को तैयार है।

? अंजलि सिन्हा


ब्लेकमनी को लेकर ब्लेकमेल

      विदेशों में जमा कालेधन पर सरकार की नीयत साफ नहीं लगती। कालेधन पर सरकार ने ऐसा हौवा खड़ा किया है, मानो जिसका खाता विदेश के किसी बैंक में हो, वह अपराधी है। बात ऐसी बिलकुल भी नहीं है। विदेशी बैंकों में खाता होना अपराध नहीं है, बल्कि बिना टैक्स के विदेशी बैंकों में धन जमा कराया है, तो यह अपराध है। पहले सरकार ने कहा था कि वह स्विस बैंकों में धन जमा कराने वाले 31 नामों को उजागर करेगी, बाद में उसने केवल 8 नाम ही जाहिर किए।

? डाॅ. महेश परिमल


डिग्री और योग्यता में बढ़ता फासला

        पिछले दिनों विभिन्न तकनीकी नौकरियों की सैलरी की सर्वे करने वाली कंपनी टीमलीज ने एक रिपोर्ट में बताया कि देश में इलेक्ट्रिशियन फिटर और प्लंबर की मांग बहुत ज्यादा है और जबकि इंजीनियर्स की माँग बहुत कम और आपूर्ति बहुत ज्यादा है   टीमलीज के सर्वे के अनुसार बारहवीं पास इलेक्ट्रिशियन की औसत सैलरी 11300 रुपये प्रति माह है, जबकि डिग्री वाले इंजीनियर की औसत सैलरी 14800 रुपये प्रति माह यानी 3500 रुपये ज्यादा है।

? शशांक द्विवेदी


अंतरराष्ट्रीय छवि के लिए स्मार्ट सिटी

      हिंदुस्तान में स्मार्ट सिटीज विकसित करने के लिए मोदी बहुत उत्सुक हैं. अपने चुनावी भाषणों में भी मोदी ने देशवासियों को 100 स्मार्ट सिटी का सपना दिखाया था. मोदी  जी के पास सपने दिखाने के लिए बहुत बड़ा बायस्कोप है. लेकिन शायद उन्होंने यह सोचा हो कि भारतीय शहरों को स्मार्ट सिटी बना पाना आसान काम बिल्कुल नहीं हो सकता. सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि

? शैलेन्द्र चैहान


गंगा सफाई पर जायज है कोर्ट की फटकार

        बार फिर से देश की शीर्ष अदालत ने गंगा नदी की सफाई के प्रति लापरवाही बरते जाने पर अपनी गहरी चिंता व्यक्त करते हुए इसकी सफाई की कार्ययोजना के बाबत केंद्र सरकार को कडी फटकार लगाई है। उच्चतम न्यायालय ने देश की जीवन रेखा मानी जानेवाली गंगा नदी के उद्धार के लिए अहम निर्देश देते हुए राष्ट्रीय हरित अधिकरण से कहा है कि वह गंगा नदी को प्रदूषित करने वाली औोगिक इकाइयों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ ही उनकी बिजली-पानी की आपूर्ति बंद करे।

? सुनील तिवारी


जच्चा-बच्चा को बचाने की पहल

      शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और यूएनएआइडी के सहयोग से भारत नवजात कार्ययोजना की शुरुआत एक स्वागतयोग्य पहल है। कार्ययोजना में गर्भाधान से पूर्व तथा गर्भ के दौरान, प्रसव के दौरान, जन्म के तुरंत बाद नवजात की देखभाल शामिल है।

? अरविंद जयतिलक


  3 नवम्बर- 2014

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved