संस्करण: 30मार्च-2009

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT

उमा का प्रस्ताव और आडवाणी का असमंजस
     उमा भारती ने भाजपा और लाल कृष्ण आडवाणी का प्रचार अपने एक बयान से कर दिया है।कभी भाजपा ने उमा भारती की प्रवचन कला, भीड़ को सम्बोधित करने की उनकी क्षमता, मुखरता जिसे देशी भाषा में मुँहफट होना कहा जाता है, दुस्साहस, सन्यासभेष आदि के कारण रामजन्म भूम  >वीरेंद्र जैन


कब तक छलोगे राम को
      हने वाले ने सच ही कहा है, खुदा महफूज रखे मेरे बच्चों को इस सियासत से ये वो औरते हैं जो ताउम्र पेशा कराती हैं. वर्तमान में राजनीति का स्वरूप इतना विकृत हो चला है कि इससे ताल्लुकात रखने वाले भगवान को भी छलने का मौका नहीं चूकते. खुद को हिंदू हितों की>नीरज नैयर
 


घृणा फैलाने वाले नेताओं की जय हो !
         पिछले कुछ दिनों में देश व प्रदेश के राजनीतिक मंच पर कुछ ऐसी घटनाएँ घटी हैं जिनके घटने पर आने वाली पीढ़ियां सहसा विश्वास नहीं करेंगी। चुनाव के ठीक पहिले घट रही इन घटनाओं से एक बात बहुत साफ हो गई है कि राजनीतिक नेता सत्ता की राजनीति के लिए  >एल.एस.हरदेनिया


फैशन शैली बदलकर मतदाताओं को रिझायेंगा राजनेता
ब्रांड इमेज निखारने के लिए विज्ञापन एजेंसियों को ठेका
भारतीय राजनीति में अब वह दौर आ गया है जिसमें मतदाताओं को प्रभावित करने और अपने रूप में निखार लाकर उन्हें रिझाने की राजनेताओं में प्रतिस्पधाएं जोर पकड़ती जा रही है। स्वतंत्रता प्राप्ति के एकदम बाद हमारे देश में प्रजातंत्रीय प्रणाली का उदय हुआ। उस समय के रहनुमा  >राजेंद्र जोशी


चुनावी काले धन के जन कल्याण
    कालेधान के सरोकार भी जन कल्याण से जुड़े हों यह विचित्र विरोधाभास भारत में ही देखने को मिलता है। कालाधान वैश्विक आर्थिक मंदी से प्रभावित देश की अर्थव्यवस्था को उबारने का काम करेगा यह विसंगति भी यहीं हैं। एक अनुमान के मुताबिक पच्चीस करोड़ के काले धान की पूंजी  >प्रमोद भार्गव


आर्थिक बदहाली  की ओर मध्यप्रदेश
धयप्रदेश आर्थिक बदहाली की ओर बढ़ रहा है। राज्य का राजस्व कर संग्रहण, जो 17 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच गया था, उसमें दस साल दो हज़ार करोड़ की कमी आने के आसार हैं। राजस्व में आई कमी के कारण सरकार को राज्य की वार्षिक योजना में दो हज़ार करोड़ >महेश बाग


मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की सरकारें कुपोषण के आगे पस्त

   ध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में तमाम उपायों के बावजूद कुपोषण का कहर जारी है। लाखों मासूमों को कुपोषण ने अपनी गिरफ्त में ले रखा है। राज्य सरकारों के सभी दावों को झुठलाता हुआ यह आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चौतरफा पडते दबाव के चलते मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह  >एम.के.सिंह


अनावश्यक खर्चों के चक्रव्यूह में फँसता मध्यम वर्ग
     ज हमारे देश में हर समस्या के समाधान के लिए कंसल्टेंट की व्यवस्था है। घरेलू झगड़े, व्यापारिक झगड़े, आदि के लिए आपको कंसल्टेंट मिल जाएँगे। पर क्या आप जानते हैं हमारे देश में कंसल्टेंट की सबसे अधिक आवश्यकता मधयमवर्गीय परिवारों को है, जिससे वे यह>डॉ. महेश परिमल


लालच की भेंट चढ़ा क्रिकेट

    धान कमाने की असीमित अभिलिप्सा ने क्रिकेट को दक्षिण अफ्रीका पहुंचा दिया। लोकसभा चुनाव की तिथियों के इर्दगिर्द आईपीएल-2 के खेल कराने की जिद ने उसे देश के बाहर का रास्ता दिखाया। आतंकवाद से त्रस्त भारत समेत अन्य देशों के लिए लोकतंत्र के महापर्व को संपन्न   >अंजनी कुमार झा


''ट्रान्सफैट का बढ़ता खतरा''
कुछ दिनों पूर्व एक गैर सरकारी संगठन ने अपने अधययन में पाया है कि हमारे देश के अधिकांश ब्रांडेड तेल और वनस्पति घी हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है, क्योंकि इनमें ट्रांसफेटी एसिड की मात्रा सुरक्षित स्तर से कई गुना अधिक है, और यह ट्रांस फेट हमारे हृदय पर  >डॉ. सुनील शर्म


शहर के भीतर कई शहर

     पने अली बाबा और चालीस चोर की कहानी तो देखी, पढ़ी या सुनी होगी. उसमें एक चोर जब अलीबाबा का घर पहचान लेता है तो उसके बाहर क्रास का निशान लगाकर चल देता है. अगली सुबह चालीस चोर आते हैं. लेकिन हर घर के आगे क्रास का निशान लगा रहता ह>शिरीष खरे



 30 मार्च 2009

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved