संस्करण: 29 मार्च-2010  

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

राजनीति की वोटनीति

 

 राजनीति के मान्य मुद्दों में इन दिनों और भी नये-नये बिन्दु जुड़ते जा रहे हैं। वैसे 'राजनीति' कोई नया शब्द नहीं है। सत्ता संचालन की नीति और सत्ताधारियों द्वारा सर्वजन हिताय के लिए इस नीति के तहत एजेंडे बनते आ>राजेंद्र जोशी


 

भले ही कानून से सजा मिले या न मिले
जनता की अदालत में तो सच सामने आ गया है

 

मारे देश का कानून इस सिध्दांत के अनुसार काम करता है कि भले ही सौ दोषी छूट जायें किंतु एक बेगुनाह को सजा नहीं मिलना चाहिये, और इसी का लाभ लेते हुये एक सजा के अनुपात में सौ दोषी छूटते चले जा रहे>वीरेंद्र जैन


 

पुलिस समय पर नहीं जागी और
अर्जुन हमेशा के लिए सो गया

 

साम्प्रदायिक दंगों में गरीब ही मारे जाते हैं। गरीबों का ही नुकसान होता है। यह वास्तविकता एक बार फिर रेखाकिंत हुई देवास जिले के खातेगांव में होली के दिन हुई साम्प्रदायिक हिंसा की भोपाल से गए एक जांच दल>एल.एस.हरदेनिया


 

कैसे बने स्वतंत्र पहचान ? क्या हो स्त्री का नाम !

 

बाल ठाकरे परिवार की बहू रह चुकी स्मिता ठाकरे के कांग्रेस से नजदीकियां बढ़ाने की ख़बरों के बीच उध्दव ठाकरे का बयान आया है कि वे जहां जाना चाहें जाएं मगर ठाकरे सरनेम छोड़ दें। ज्ञात हो कि स्मिता बाल>अंजलि सिन्हा


लाइलाज होती सार्वजनिक वितरण प्रणाली

    मारे मुल्क में सालों से सार्वजनिक वितरण प्रणाली के रग-रग में समा चुके भ्रष्टाचार के चर्चे हो रहे हैं, मगर ये कैंसे सुधारे ? इसकी कोई सार्थक कोशिश कहीं नजर नहीं आ रही है। सरकार के तमाम दावों और वादों के>जाहिद खान


 

पेयजल वितरण में असमानता

पेयजल संकट की भयावहता को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकार ने पानी के राशनिंग का फैसला लिया है। अब पचपन लीटर प्रति व्यक्ति पानी उपलब्ध कराने पर सरकार आमदा है। यहां विषमता यह है कि सरकार न तो जल के>प्रमोद भार्गव


 

वैश्वीकरण की प्रक्रिया ने असंगठित क्षेत्र को और विस्तृत बना दिया है

केन्द्र सरकार न्यूनतम वेतन अधिनियम में संशोधन करने की तैयारी में है, ताकि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले करोड़ों कामगारों को शोशण से बचा कर आर्थिक सुरक्षा मुहैया करायी जा सके। सरकार का मानना है कि>सुनील अमर


 

 

कठिन डगर किसान क्रेडिट कार्ड की

  सहकारी बैंक के प्रबंधक को नाराज कर विनोद जी पिछले तीन माह से बैंक और अधिकारियों के चक्कर काट रहे है मगर अभी तक उनका क्रेडिट कार्ड नहीं बन पाया है। विनोद जी क्रेडिट कार्ड का आवेदन करके आश्वस्त थे कि सरकारी>डॉ. सुनील शर्मा


 

योग की राजनीति या
राजनीति का योग


    मारे देश में वैसे भी राजनैतिक दलों की कोई कमी नहीं है, इस पर हमारे रामकिशन यादव जी ने आगामी तीन वर्षों में एक राजनैतिक दल बनाने की घोषणा कर दी है। आप जानते हैं कौन हैं ये रामकिशन यादव, अरे ये तो>डॉ. महेश परिमल


 

धर्म की आड़ में अधर्म का
व्यापार करते स्वामी महाराज


जकल स्वामी महाराजों की चांदी है, एक आश्रम स्थापित किए और कुछ चेले बनाए तथा बन गए, स्वामी, महाराज, संत, संन्यासी, पाखंडी और कर्मकांडी। कुछ लाल, गेरुए, उजले वस्त्र पहने, दाढ़ी एवं बाल बढ़ाए तथा आधे दर्जन>दुलार बाबू ठाकुर


 

अनिवार्य शिक्षा अधिनियम :
बच्चों के लिए खुलेंगे संभावनाओं


    प्रैल 2010 से भारत में छ: से चौदह वर्ष तक के बच्चों के लिए अनिवार्य शिक्षा अधिनियम लागू हो जाएगा। वैसे तो संविधान के नीति निर्देशक तत्वों के अनुसार बच्चों की नि:शुल्क शिक्षा का प्रबंध 26 जनवरी 1960>डॉ. गीता गुप्त


29 मार्च-2010

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved