संस्करण: 28अप्रेल-2008

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT

राजनीति का एक विपरीत पक्ष
वोट के लिए जन भावनाएँ भड़काने का दूषित खेल

राजनैतिक क्षेत्रों में यह आम धारणा बन गई है कि लोकसभा और विधानसभाओं के निर्वाचनों में मतदाताओं को झूठे आश्वासन देने, लोक लुभावन प्रलोभन देने और जन जन  >राजेन्द्र जोशी


      



म.प्र. विधानसभा चुनाव
भाजपा में टिकिट वितरण का भविष्

 
मधयप्रदेश में दल के नाम से ऐसे कई गिरोह सक्रिय हैं जो अपने वैचारिक आधार पर प्रदेश को सरकार देने या सक्षम विपक्ष के रूप में कुछ विधायक चुनवाने की जगह वोट काटने >वीरेन्द्र जैन


दिखने के लिए बिजली, भरने के लिए बिल !
आज़ादी के पहले और फिर आज़ादी मिलने के बाद से, या यूं कहें कि जब से कांग्रेस पार्टी अस्तित्व में आई है तभी से उसके एजेंडे में अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति के >अमिताभ पाण्डेय


             


     


राख का पानी पीने, पानी को कैद और पलायन को मज़बूर : बुन्देलखंड
बुन्देलखण्ड का भाग चाहे उत्तर प्रदेश का हो या मध्यप्रदेश का सभी जगह सूखे खेत और सूनसान गांव नज़र आते हैं। अरहर, गेहूं और सरसों के खेत सूखे पड़े हैं। पाले के बाद रही सही >राजेन्द्र श्रीवास्तव


घटता औद्योगिक उत्पादन और रोजगार
घटते औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े सामने आने के साथ सूचना तकनीक, कम्प्यूटर और निर्माण के साथ निर्यात के क्षेत्र में भी बड़े पैमाने पर रोजगार घटने के संकेत मिलने लगे हैं। पूंजीवादी अमेरिकी अर्थव्यवस्था >प्रमोद भार्गव


       


 


बढ़ती हुई कीमतें और खाद्यान्
 बढ़ती हुई कीमतों और खाद्यान्न के अभाव की समस्या से भारत ही नहीं लगभग संपूर्ण विश्व प्रभावित है। जिन भी देशों में पूंजीवादी आर्थिक व्यवस्था है, वे ही देश इस संकट की चपेट में आ गए हैं। जहाँ तक खाद्यान्न के >एल.एस.हरदेनिया


1 मई- श्रम दिवस पर विशेष दशा और दिशा में उलझे बाल श्रमिक
बारह वर्षीय राजू रोज सुबह सात बजे उठता है, होटल पहुंचता है और दिनभर टेबिल साफ करने, पानी लाने, जूठी थालियां धोने में लगा रहता है। पढाई करने या दोस्तों के साथ खेलने की बजाए >एम.के.सिंह


              


  


खाद्यान्न उत्पादन में वृध्दि से संभव है मँहगाई से मुक्ति
आई.एम.एफ और विश्व खाद्य संगटन के अनुसार अब दुनिया में कुछ ही हफ्तों का खाद्यान्न शेष है और सारी दुनिया भयानक खाद्यान्न संकट की ओर बढ़ रहीं है। आज सारी दुनिया में खाद्यान्नों की >डॉ. सुनील शर्मा


पंचायती राज की शहीद
पंचायती राज प्रणाली के पन्द्रह साल पूरे होने के उपलक्ष्य में 22 अप्रैल से 24 अप्रैल तक दिल्ली में सम्मेलन का आयोजन किया गया है। इस सम्मेलन में देश के अलग अलग हिस्सों से >सुभाष गाताडे


     



प्रचण्ड पथ पर नेपाल
लम्बी जद्दोजेहद के बाद हुए नेपाली चुनावों के नतीजों ने फिर एक बार साबित कर दिया कि इतिहास हम सबसे ज्यादा कल्पनाशील और रचनात्मक होता है और यह >अशोक कुमार पाण्डेय


राजनीति व भ्रष्टाचार की शिकार "नरेगा"
ग्रामीण बेरोजगारों के लिए बहुप्रचारित राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजना अपने तीसरे और अन्तिम चरण में गत एक अप्रैल से पूरे देश में लागू हो गई है। जहाँ तक उत्तर प्रदेश की बात है 'नरेगा' नामक इस योजना ने >सुनील अमर

 

          

 

        

हॉकी में भ्रष्टाचार व गिल की जिद

भ्रष्टाचार रिश्वत और भाई-भतीजेवाद के चरम पर पहुँचने के साथ स्टिंग ऑपरेशन के जरिये आई एच एफ के महासचिव को रंगे हाथ पकड़ने पर राष्ट्रीय खेल पर हम गौरव नहीं कर सकते। रिश्वत लेकर चयन हो, तो हम >अंजनी कुमार झा


          28 अप्रेल 2008

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved