संस्करण: 28 फरवरी -2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


माननीय, मुख्यमंत्री, मध्यप्रदेश के नाम

दिग्विजय सिंह का दूसरा खुला खत (उपवास के नाटक के बाद ?)
 

  आखिरकार उपवास का नाटक पिछले 15-20 दिनों के प्रचार-प्रसार के उपरांत बिना मंचन के ही समाप्त हो गया। भारतीय जनता पार्टी में तो आपको सदबुध्दि देने वाला कोई नहीं था। >दिग्विजय सिंह


जनाब भागवत, भारत की अवाम से माफी कब मांगेंगे !

अर्थात संघ किस तरह डरता है आतंक के धब्बे से


  राम माधव, हिन्दू पुरूषों के संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्वप्रवक्ता, अपने हास्यबोध के लिए कभी चर्चित नहीं रहे हैं। >सुभाष गाताड़े


जाति समुदायों के संगठनों की हैसियत

 

  द्यपि हमने अपने संविधान में रंग धर्म लिंग जाति भाषा क्षेत्र आदि के भेद भाव के बिना सभी नागरिकों को समान अधिकार का वादा किया हुआ है पर इसके साथ सामाजिक आर्थिक रूप से दलित व पिछड़ी जातियों को >वीरेंद्र जैन


गुजरात में मुसलमान अब भी आतंक के साये में

 

  ''हम एक पुलिस राज्य में रह रहे हैं। मुझे यहां डर लगता है। मेरे भी बच्चे हैं'', इन शब्दों के साथ सुप्रसिध्द नृत्यांगना और सामाजिक कार्यकर्ता मल्लिका साराभाई ने गुजरात की राजधानी अहमदाबाद में >एल.एस.हरदेनिया


प्राथमिक शिक्षा में महिला शिक्षक आगे !

 

   मानव संसाधन विकास मन्त्रालय की एजेन्सी न्यूपा के ताजा सर्वेक्षण के अनुसार प्राथमिक विद्यालयों में महिला शिक्षकों की संख्या बढ़ रही है। देश में पहली से 8 वीं कक्षा तक के लगभग 58 लाख शिक्षक हैं >अंजलि सिन्हा


मदरसा आरक्षण और आधुनिक शिक्षा

  दरसों के पाठयक्रम को बदलने की कोशिश की जा रही है। मदरसे काफी पुराने पाठयक्रम और इस्लामी शिक्षा पध्दति पर ही चल रहे हैं। पिछले कुछ समय से मदरसों की भूमिका को लेकर लगातार बहस होती रही है >राखी रघुवंशी


मुश्किल में आए दुनिया के तानाशाह

 

  मामूली मौत से फूटा जन विद्रोह का सैलाव तानाशाहों के लिए कितना खतरनाक साबित हो सकता है यह टयूनीशिया और मिस्त्र में आए बदलाव ने तय कर दिया है। >प्रमोद भार्गव


हुबली में बन गई सड़कों को स्वस्थ रखने की दवा

 

  हा जाता है कि सड़कों से देश का विकास होता है। इसे ऐसे भी कहा जा सकता है कि देश का विकास सड़कों के रास्ते से ही आता है। सच है, सड़कें  बेहतर हों, तो कई मुश्किलें आसान हो जाती हैं। >डॉ. महेश परिमल


कीटनाशकों के जहर का कसता शिकंजा?

 

  भारत सरकार के कृषि विभाग द्वारा अभी हाल में जारी रिपोर्ट के अनुसार देश भर के विभिन्न हिस्सों में फल,सब्जियों,अण्डों और दुध में कीटनाशकों की उपस्थिति पर किए गए अध्ययन से स्पष्ट हुआ है >डॉ. सुनील शर्मा


28 फरवरी -2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved