संस्करण: 27 अक्टूबर- 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


मंदिर पर पलट गए, कालाधन क्या चीज

     तारीख 1/11/2011, तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा, मुकदमे की कार्यवाही शुरू करने के बाद ऐसे लोगों के नामों का खुलासा किया जाएगा,  जिनका विदेशों में काला धन है और जिसकी जानकारी सरकार को मिल चुकी है। यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार को कालाधन मामले में उद्योगपतियों और सांसदों के बारे में सूचना मिली है, प्रणब मुखर्जी ने बताया था कि जब और जैसे ही सूचना मिलती है, जांच शुरू होती है और मुकदमा दर्ज होता है, मौजूदा संधि नियमों के तहत हम ऐसे लोगों के नाम का खुलासा कर सकते हैं। 

? विवेकानंद


हिन्दू-मुस्लिम विवाह जेहाद नहीं, असली भारत है.

        मैं एक खिलाड़ी का बेटा हूँ। मैं इंग्लैंड, भोपाल, पटौदी, दिल्ली और मुंबई में पला-बढ़ा हूँ और जिन भी हिन्दू या मुसमानों को जानता हूँ, उनसे कहीं ज्यादा भारतीय हूँ, क्योंकि मैं हिन्दू और मुसलमान दोनों हूँ। मैंने यह लेख लोगों पर अथवा भारत और यहाँ के गांवों में सांप्रदायिकता की समस्याओं पर टिप्पणी करने के लिए नहीं लिखा बल्कि यह एक ऐसा मुद्दा है जो मेरे दोस्तों और उनके परिवारों से जुड़ा हुआ है। जब मेरे माता-पिता शादी करना चाहते थे तब शुरू में किसी के भी द्वारा इस रिश्ते को सरलता से स्वीकार नहीं किया गया।  नवाबों और ब्राह्मणों के अपने-अपने मुद्दे थे। 

? सैफ अली खान


महाराष्ट्र में मोदी की आंधी नहीं चल पायी

     हाराष्ट्र के चुनाव परिणामों ने भारतीय जनता पार्टी के समक्ष सिर्फ राजनीतिक वरन् नैतिक संकट भी खड़ा कर दिया है। महाराष्ट्र की विधानसभा में स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने के अनेक अर्थ हैं। सबसे पहला यह कि जैसा समझा गया था कि महाराष्ट्र में भी नरेन्द्र मोदी की आंधी चलेगी वैसा नहीं हुआ। दूसरा अर्थ यह है कि जिस प्रकार से परिणाम आए हैं उससे भारतीय जनता पार्टी के लिए अपना सहयोगी चुनना बहुत कठिन हो गया है।

 ? एल.एस.हरदेनिया


राज ठाकरे को दिखा चुनावी आईना

      हालिया विधानसभा चुनाव में मनसे यानी महाराष्ट्र नव निर्माण सेना का सफाया हो गया है। गत विधानसभा चुनाव 2009 में जहां  इस पार्टी ने 13 सीटें जीती थीं, वहीं इस बार यह महज एक सीट पर गई है। मुम्बई  जहां इसका मुख्यालय है, वहां  यह पूरी तरह साफ हो गई है। यह एक सीट भी उसे मुम्बई से काफी दूर पुणे जिले की जुन्नार विधानसभा क्षेत्र में मिली है जो उसके प्रत्याशी की अपनी व्यक्तिगत प्रतिभा के कारण सम्भव हुई है। मनसे की धुर विरोधी और इसकी मूल पार्टी शिवसेना को मुम्बई में ही 14 सीटें मिली हैं।

? सुनील अमर


कानून की दृष्टि से सब एक समान:

फिर कैसे हो गये दिग्विजय सिंह बड़े आदमी !

           भारत के संविधान मे समस्त भारतीय नागरिको को मूल भूत अधिकार दिये गये हैं साथ ही समस्त नागरिको को एक ही श्रेणी मे मानकर एक समान मताधिकार प्रदान किया गया है, संविधान की दृष्टि से कोई छोटा या बड़ा नहीं माना गया । संविधान के अनुसार सरकार को स्वयं ही प्रत्येक भारतीय नागरिक के मूल अधिकारों का संरक्षण करना चाहिये, किन्तु इस कार्य में सरकार असफल रहती है, तब भारतीय संविधान अनुच्छेद 32 के द्वारा मूल अधिकारो प्रवर्तित करने के लिये ......

  ?  विजय कुमार जैन


समाज का स्वरूप: महिलाओं की स्थिति

         नेपोलियन बोनापार्ट ने कहा था तुम मुझे एक योग्य माता दो, मैं तुमको एक योग्य राष्ट्र दूंगा किसी भी समाज का स्वरूप वहां महिलाओं की स्थिति पर निर्भर करता है , अगर उसकी स्थिति सुदृढ़ और सम्मानजनक है तो समाज भी दृढ़ और मजबूत होगा  अगर हम इस बात को भारतीय संदर्भ में देखें तो मालूम होगा कि आजादी के बाद शहरी और स्वर्ण महिलाओं की स्थिति में तो सुधार हुआ है , लेकिन पिछड़े ग्रामीण इलाकों की और दलित महिलाओं की स्थिति क्या है ?

? फरहाना रियाज


बेटियों की चिंता: हकीकत में कम,कागज पर ज्यादा

      ध्यप्रदेश में बेटियों की कम होती संख्या को बढाने के लिए सरकार बेटी बचाओं अभियान चला रही है। इस अभियान में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की विशेष् रूचि होने से प्रशासन ही नहीं सामाजिक और राजनीतिक दल से जुडें लोग भी बेटी बचाओं अभियान को सफल बनाने के लिए तरह तरह के आयोजन करते नजर आते हैं। राज्य सरकार ने इस अभियान के लिए बडे बजट के साथ विषेष कार्ययोजना को प्रारंभ किया है।

? अमिताभ पाण्डेय


प्रदूषित होती नदियों को बचाने का संकल्प

     आ पूरे देश में गंगा सफाई की गूंज सुनाई दे रही है कहा जा रहा है गंगा नदी हमारे देश की लाईफ लाईन है निःसंदेह गंगा नदी का अपना पौराणिक और धार्मिक महत्व है और मोक्ष दायिनी के रुप में पूरे विश्व में गंगा जी का नाम आता है। परंतु मुझे लगता है कि जो नदी आपके आस पास बह रही है वही आपके क्षेत्र की लाईफ लाईन है। नदियों, पहाड़ों, पेड़ पौधों का अपना एक महत्व है। प्राचीन काल में जब छोटे छोटे कस्बों और गांवों की बसाहट शुरु हुई तब सबसे ज्यादा इसी बात पर ध्यान दिया गया कि ये कस्बें या गांव किसी नदी के किनारे बसाये जायें।

? योगेन्द्र सिंह परिहार


बढ़ रहे हैं टेक्नो स्ट्रेस के मामले

        जैसे-जैसे हम आधुनिक होते जा रहे हैं, वैसे-वैसे हमारा टेक्नो-स्ट्रेस यानी तकनीकी तनाव बढ़ता जा रहा है। वॉट्स अप, फेसबुक जेसे सोषल मीडिया के कारण परिवार में बढ़ रहे हैं विवाद और तनाव। अब इस तरह के मामले आम हो गए हैं। पालकों की शिकायत है कि आजकल बच्चे किसी पर भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। अब तो यह कहना होगा कि आज के युवा किसी की सुनना ही नहीं चाहते। आज अधिकांश युवा मोबाइल पर वॉट्स अप से जुड़े रहते हैं,या फिर ईयर फोन लगाकर इधर-उधर डोलते रहते हैं।  

? डाॅ.महेश परिमल


वित्तीय समावेशन  के लिए जरूरी है- नगदी रहित लेनदेन

      पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गांधी ने कहा था कि आम आदमी के पास सरकार के खाते से निकले एक रूपये में से 15 पैसे ही पहुंचते  हैं बाकी 85 पैसा भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाता है। मुद्रा के इस लीकेज का मुख्य कारण था अधिकांश राशि का नगदी के रूप में प्रवाहित  होना। अतः इस भ्रष्टाचार से मुक्ति के लिए कांग्रेस  नेतृत्व वाली पिछली यूपीए सरकार ने आम आदमी के हिस्से की नगद सब्सिडी आधार नंबर के जरिए बैंक खाते में ट्रांसफर करने की शुरूआत की थी, वास्तव में...

? डाॅ.सुनील शर्मा


उच्च शिक्षा से वंचित हो रहीं बेटियां

        जबकि हर क्षेत्र में लड़कियों ने अपनी प्रतिभा साबित कर दी है, कुछ राज्यों में उन्हें मनचाही उच्च शिक्षा से वंचित किया जा रहा है। यह निष्चय ही दुर्भाग्यपूर्ण है। उदयपुर (राजस्थान) के कॉलेज ऑफ  टेक्नोलाॅजी  एण्ड इंजीनियरिंग में महिलाओं को माइनिंग इंजीनियरिंग में प्रवेश देने का प्रावधान सचमुच आष्चर्यचकित कर देने वाला है। सुनन्दा लोढ़ा नामक छात्रा ने उदयपुर के उक्त कॉलेज में प्रवेश हेतु माइनिंग इंजीनियरिंग का विकल्प चुना।               

? डॉ. गीता गुप्त


  27  अक्तूबर- 2014

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved