संस्करण: 27 जून-2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


अन्ना हजारे और गांधी

     जितना संसद का अवमूल्यन होता है, लोकतंत्र की जड़ों को काटता है 

अन्ना को 21वीं सदी का गांधी कहना, जो कुछ उन्होंने करना शुरू किया, विशुध्द अतिशयोक्ति है, लेकिन कई उनके तरीकों में समानता देखना चाहते हैं, एक खासतौर से, उनका अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अनशनों का सहारा लेने में। हालांकि यह गलत है। वाकई,यह वास्तविकता कि बहुत सारे लोगों का यह समझना कि अन्ना की पध्दति गांधी की पध्दति के समाने है, सिर्फ यह सोचना इशारा करता है कि........ 

 ? प्रभात पटनायक


बाबा रामदेव पर भ्रष्टाचार का नवग्रह

  बाबा पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों में से नौ को यहाँ  प्रस्तुत किया जा रहा है....

1. हरिद्वार कोतवाली में हुआ मामला दर्ज-  यह वर्ष 2002-2003 की बात है जब स्वामी रामदेव का हरिद्वार के अधिवक्ता से विवाद हो गया था। यह विवाद शंकर देव आश्रम में कब्जे को लेकर हुआ था। जिसमें स्वामी रामदेव ने बाली नामक एक अधिवक्ता के सर पर भारी प्रहार कर दिया था। 

? आकाश नागर


बाबा रामदेव के बारे में

साधु संतों के विचार

  भाजपा अपने आप को सच्चा धर्म निरपेक्ष बताती है और दूसरी पार्टियों को छद्म धर्म निरपेक्ष कहती है, किंतु उसके सहयोगी संगठनों के यहाँ सेक्युलर होना एक गाली है, जिनसे उन्होंने कभी असहमति भी व्यक्त नहीं की है। उसके सहयोगी संगठन मुसलमानों से नफरत करते हैं किंतु वोटों के लिए भाजपा अपने यहाँ अलग से अल्पसंख्यक मोर्चा बनाये हुये है और जब तब उसके सम्मेलन करती रहती है

? वीरेन्द्र जैन


फारबिसगंज का खून किसके नाम ?

रंग ला रही है हिन्दुत्व की 'अभिनव अंगडाई'  

   क्या साठ साल से चले आ रही एक सड़क को - बिना किसी वैकल्पिक इन्तजाम के या कमसे कम इसके बारे में लोगों से वायदा करके - किसी अलसुबह बन्द किया जा सकता है ? और इस कदम का शान्तिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे आम लोगों पर गोलियां बरसायी जा सकती हैं ?  

? सुभाष गाताड़े


गुजरात पुलिस एक बार फिर कठघरे मे

 

    गुजरात हाई कोर्ट के ताजा आदेश ने एक बार फिर गुजरात पुलिस और सूबाई सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया है। अदालत ने सीबीआई को इस बात की जांच करने को कहा है कि सादिक जमाल की मौत कैसे हुई ? सादिक जमाल को जनवरी 2003 में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच के प्रमुख रहे डी.जी. बंजारा और उनकी टीम ने सूबे के नरोड़ा इलाके में फर्जी मुठभेड़ में मार गिराया था। । 
? जाहिद खान


समझौता एक्सप्रेस धमाके में आरएसएस की भूमिका साबित

 

  मझौता एक्सप्रेस में हुए बम विस्फोट में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक प्रमुख कार्यकर्ता द्वारा मुहैय्या  कराई गई सहायता की प्रमुख भूमिका थी। इस बात का उल्लेख उस आरोपपत्र में किया गया है जो राष्ट्रीय जांच एजेन्सी (एनआईए) ने पंचकुला (हरियाणा) की एक अदालत में 20 जून 2011 को दाखिल किया।

? एल.एस.हरदेनिया  


मध्यप्रदेश में कांग्रेस-शासन काल में अल्पसंख्यक कल्याण का नया विभाग बना

अल्पसंख्यक आयोग को संवैधानिक दर्जा मिला

  ध्यप्रदेश में विगत कांग्रेस-शासन काल के दौरान अल्पसंख्यक कल्याण की दिशा में जितने भी कार्यक्रम लागू हुए उनकी वजह से अनेक मामलों में यह प्रदेश देश का पहला राज्य बनकर उभरा। प्रदेश में भारत को प्रथम वक्फ न्यायालय की स्थापना की गई तथा वक्फ एक्ट के अंतर्गत शैक्षणिक और धार्मिक स्थल,न्यासों और संपत्तियों को रेंट कंट्रोल एक्ट से मुक्त रखने के मामले में यह प्रदेश देश का पहला राज्य भी बना। 

? राजेन्द्र जोशी  


प्रशासन नहीं, पार्टी सँभालने में व्यस्त रहती हैं मायावती

  त्तर प्रदे में कानून और व्यवस्था की हालत इन दिनों ज्यादा खराब है। हत्या और बलात्कार जैसे संगीन अपराधों की बाढ़ सी आ गई है। ज्यादा हैरतअंगेज यह है कि ऐसी घटनाओं में पुलिस तथा मंत्रियों व विधायकों की संलिप्तता भी पाई जा रही है। मामला कितना संगीन है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि ऐसी हर बात और घटना का ठीकरा हमेा केन्द्र और विपक्ष के सिर फोड़ देने वाली मुख्यमंत्री ने अपराधों में वृध्दि को स्वीकार किया है।

? सुनील अमर


हिंदी भाषा को दोयम दर्जे
का मानने की भूल न करें

 

               ईआरएस-2011 राउंड फर्स्ट के आंकड़ों के मुताबिक शीर्ष दस भारतीय अखबारों में से केवल टाइम्स ऑफ इंडिया ही 7वे स्थान पर अपनी जगह सुनिश्चित कर पाया है। वहीं शीर्ष दस भारतीय अखबारों में से 5 स्थानों पर हिंदी भाषी अखबारों ने परचम फहराया है तथा चार स्थानों पर क्षेत्रीय अखबारों का दबदबा कायम है। भारत में अंग्रेजी पत्रकारिता को ही सिरमौर मानने वाले जरा ध्यान दें। 

? सिध्दार्थ शंकर गौतम


गरीब बच्चों के साथ सरकारी स्कूल में पढ़ती है कलेक्टर की बेटी :-

समान शिक्षा की आदर्श मिसाल  

  रकारी शिक्षा में सुधार के तमाम प्रयोगों के दौरान एक आदर्श मिसाल इरोड के नौजवान कलेक्टर डॉ आनंद कुमार ने पेश की है। उन्होंने अपनी लाडली बिटिया गोपिका को पश्चिमी तमिलनाडू के एक पिछड़े जिले इरोड की कुमलन कुट्टई ग्राम पंचायत संघ के प्राथमिक विद्यालय में दाखिला कराया है। जब राजनेताओं,नौकरशाहों और यहां तक कि आम आदमी में भी उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यमों के स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने की जद्दोजहद चरम पर हो, ........

? प्रमोद भार्गव


कृषि कैबिनेट या किसानों
को ठगने का शिगूफा?  

 

        म.प्र. में इस समय कृषि कैबिनेट के नाम का काफी हो हल्ला है प्रदेश सरकार का कहना है कि किसानों के भले और खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिए यह कवायद की गई है। वास्तव में सरकार द्वारा कृषि कैबिनेट किसानों को भरमाने के लिए बुना एक अच्छा सा शब्द जाल है। क्योंकि विधिक तौर पर तो कृषि कैबिनेट जैसा कुछ होता ही नही हैं। वास्तव में खेती के लिए काम करने वाले तमाम पुराने विभागों को एक साथ बैठाने को ही कृषि कैबिनेट का जुमला दे दिया गया है। 

? डॉ. सुनील शर्मा



करोड़ों खर्च, फिर
भी बढ़ी गरीबी

 

        ध्यप्रदेश में गरीबी उन्मूलन के कई प्रयासों और सैकड़ों योजनाओं के बावजूद अब तक कोई सफलता नहीं मिली है। ग्रामीण गरीबी अपनी जगह बढ़ती जा रही है, जो ग्रामीणों को पलायन के लिए शहरों में जाने को मजबूर कर रही है तो दूसरी ओर शहरी गरीबी अनियंत्रित रूप से बढ़ती जा रही है। कस्बाई शहरों से लेकर प्रदेश के महानगरों में झुग्गी-झोपड़ियों का जाल बढ़ता जा रहा है,जिससे सुविधाओं का अभाव होता जा रहा है।

? महेश बाग़ी


27 जून-2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved