संस्करण: 25 अप्रेल -2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


कानून बना कर भ्रष्टाचार से मुक्ति का सपना

  पिछले दिनों हम लोगों ने भ्रष्टाचार हटाने के लिए नया लोकपाल विधेयक लाने की माँग का समर्थन किया और इसके लिए देश की राजधानी के जंतर मंतर पर अन्ना हजारे के आमरण अनशन के प्रतीक के साथ जनमत संग्रह का काम भी किया।

 ?वीरेंद्र जैन


अण्णा के अनशन के निहितार्थ

  लोकपाल बिल को लेकर चले अण्णा हजारे के चार दिन के अनशन और इसकी प्रतिक्रियास्वरूप देश भर में उन्माद जैसा जो माहौल बन गया था उसके थम जाने के बाद अब एक बार इस पूरे परिदृश्य और इसके निहितार्थ ..............  

?अशोक कुमार पाण्डेय


महा (हिन्दु) राष्ट्र !

सेक्युलर हुकमत में साम्प्रदायिक उभार

  मुल्क का एक ऐसा सूबा जिसने समाजसुधार आन्दोलनों में नज़ीर कायम की, जो कभी ट्रेड यूनियन आन्दोलन तथा कम्युनिस्ट आन्दोलन का गढ़ हुआ करता था

?सुभाष गाताड़े


मप्र में ईसाईयों की जानकारी जुटाने का अभियान

संदिग्ध इरादे, षड़यंत्र की बू

  संघ परिवार को अल्पसंख्यको को सताये बिना चैन नहीं आता। संघ परिवार का कोई न कोई सदस्य, किसी न किसी मुद्दे को लेकर अल्पसंख्यक समाज के सदस्यों को परेशान करता ही रहता है। इसी श्रृंखला में एक और कड़ी तब जुड़ गई जब ......

? एल.एस.हरदेनिया


भूरिया-पाटेंगे दूरियां

राहुल भैया-पार लगायेंगे नैंया

    यप्रदेश में 15 अप्रैल का दिन कांग्रेस के लिए ऐतिहासिक बन गया है। यह वह दिन है जब कांग्रेस एक नये रूप में अपने ओरिजनल फार्म में आ गई है। भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के बयानों में, भाषणों में, विज्ञापनों में और सदन के बाहर तथा भीतर ...........

?राजेंद्र जोशी


मप्र में ध्वस्त कानून व्यवस्था के ख़तरे

 

  यप्रदेश में क़ानून-व्यवस्था की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही हैं। राज्य विधानसभा में प्रस्तुत आंकड़ों पर ही ग़ौर करें, तो शिवराज सरकार के बीते पांच सालों में हवाई फ़ायर और गोली चालन की 56 घटनाएं हो चुकी हैं।

?महेश बाग़ी


सरकार ही कर रही है

छात्रों का शोषण

  त्तर प्रदेश में यह बसपा की चौथी सरकार है और इस बार लगता है जैसे मुख्यमंत्री मायावती ने प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक की जड़ों में मठ्ठा डालने का संकल्प कर लिया है।

?सुनील अमर


रोजी रोटी से बड़ी जरूरत बनी परमाणु बिजली

नंदीग्राम-सिंगूर बना जैतापुर

  म आदमी के लिए यह कितनी दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि बिजली के लिए उसे,उसके रोजी-रोटी के पुश्तैनी संसाधानों से बेदखल किया जा रहा है। वह भी उन हालातों में जब चेर्नोबिल और फुकुशिमा की दुर्घटनाओं ने यह साबित कर दिया है ........

?प्रमोद भार्गव


गम्भीर मानसिक अवसाद की चपेट में समाज

  नोएडा के अनुराधा और सोनाली का मामला बड़ी ख़बर बन गया है। अनुराधा तो जिन्दगी से हार मान गयी और 13 अप्रैल की सुबह उसने अन्तिम सांस ली तथा सोनाली की स्थिति अभी गम्भीर बनी हुई है।

?अंजलि सिन्हा


नई पेंशन योजना :

सुखद बुढ़ापे की आस

  मारे देश में काम करने लायक हर आदमी की चाहत सरकारी नौकरी पाने की होती है। सरकारी नौकरी की चाहत में वह अच्छे बुरे सारे प्रयास करता है।

? डॉ. सुनील शर्मा



25 अप्रेल -2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved