संस्करण: 24 मई-2010  

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

अजमेर बम धमाके
क्या इन्दौर हिन्दुत्व आतंक की
'राजधानी' बना है ?


 जाद हिन्दोस्तां का पन्द्रहवां बड़ा शहर इन्दौर, जो वहां होलकर घराने की न्यायप्रिय शासक अहिल्याबाई होलकर के नाम से अधिक जाना जाता रहा है, तथा आज की तारीख में मध्यप्रदेश की व्यावसायिक राजधानी है वह >सुभाष गाताड़े


 

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह
आत्मावलोकन करें !


त्तीसगढ़ बनने के लगभग 10 वर्ष बाद भी बस्तर एवं छत्तीसगढ़ के आदिवासियों के विकास एवं आदिवासी क्षेत्र में शांति के स्थायी हल पर श्री दिग्विजय सिंह द्वारा अपने विचार रखने पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने विचलित>गोविंद गोयल
 


 

कहां है मानवाधिकारों के हिमायती ?
 

स्तर के सुकमा कस्बे में नक्सलियों ने बारुदी सुरंग से एक यात्री बस को उड़ा दिया। इसमें पुलिसकर्मियों समेत 36 लोग मारे गए। विस्फोट इतना भयानक था कि लोगों के शरीर के चीथड़े उड़ कर पेड़ों पर>महेश बाग़ी
 


 

गडकरी से निराश भाजपा
 

 त्थान की आकांक्षा पाल रहे किसी संस्थान का प्रत्येक कदम उसके पिछले कदम से आगे होना चाहिये और उसका नेतृत्व उसके पिछले नेतृत्व से अधिक योग्य, ऊर्जावान, और लोकप्रिय होना चाहिये। अटल और आडवाणी युग>वीरेंद्र जैन


पारस है यू.पी.ए. सरकार की भारत निर्माण योजना
प्रदेश चमक उठेंगे सोने की तरह


    केन्द्र की यू.पी.ए. सरकार द्वारा देश के ग्रामीण क्षेत्रों के आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए अनेक मैदानी कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। राज्य सरकारों ने भी अपने अपने प्रदेशों के विकास के लिए राज्य स्तर>राजेंद्र जोशी


 

मनरेगा और कृषि

हात्मा गान्धी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना, मनरेगा ने देश के उन करोड़ों लोगों को निश्चित ही आर्थिक सुरक्षा की एक छतरी उपलब्ध करायी है जिनके पास आमदनी का कोई स्थायी जरिया नहीं था। गाँव-घर छोड़कर काम>  सुनील अमर


 

धर्म और जाति आधारित
कठमुल्लापन विकास के प्रमुख रोड़े


क तरफ हम अपने देश को महाशक्ति बनाने की महत्वाकांक्षा रखते हैं दूसरी ओर हमारे देश में ऐसी शक्तियां पैर पसार रही हैं, जो देश को 17वीं सदी के अंधकार में ले जाना चाहती हैं। ये ताकतें वे हैं जो देश के संविधान और>एल.एस.हरदेनिया


 

जी.एम फसलों से मानवता को खतरा

      शियन एकेडमी ऑफ साइंस से संबंधित संस्थान इंस्टीटयूट ऑफ इकोलाजी और नेशनल एसोशियेशन ऑफ जीन सिक्योरिटी ने जी.एम. सोयाबीन सेवन का चूहों पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन किया है। जीव विज्ञानी>डॉ. सुनील शर्मा


 

बड़ों के उपनिवेश नहीं हैं बच्चे

  किसी एक देश पर दूसरे देश के प्रत्यक्ष राजनैतिक शासन को 'उपनिवेश' कहा जाता है, अगर उपनिवेश शब्द को इंसानों के लिये उपयोग किया जा सके तो मैं कहूंगा कि बच्चे अभी तक बडों के 'उपनिवेश' बने हुए हैं। चूंकि वे>चंदन यादव


 

31 मई धूम्रपान निषेध दिवस पर विशेष
याद रखें : जानलेवा हो सकता है धूम्रपान


 नि:सन्देह धूम्रपान स्वास्थ्य के लिए घातक है। भारत में तम्बाकू-सेवन से होने वाली बीमारियों के कारण प्रति वर्ष दस लाख से भी अधिक मौतें होती हैं। फिर भी देश के सभी वर्गों में बढ़ती धूम्रपान की लत चिन्ताजनक है।>डॉ. गीता गुप्त


24 मई-2010

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved