संस्करण: 21 जुलाई - 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


आतंकवाद पर मोदी का बुध्दिविलास

     हाल ही में ब्राजील में संपन्न हुए छठवें ब्रिक्स सम्मेलन के दौरान, वैष्विक आतंकवाद की चुनौती पर सदस्य देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद को पनाह और समर्थन करने वाले राष्ट्रों पर वैष्विक बिरादरी द्वारा सामूहिक दबाव बनाया जाना चाहिए,जिससे कि वे इसे समर्थन देना बंद करें। उन्होंने कहा कि आतंकवाद किसी भी रूप में हो,मानवता के खिलाफ है और उसे बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए।          

? हरे राम मिश्र


दो महीने का कोई एक अच्छा काम तो बताइए

        रकार का पहला महीना पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्लॉग लिखकर कहा था कि उन्हें हनीमून का मौका ही नहीं मिला, सरकार में बैठते ही उनकी आलोचना शुरू हो गई थी। अब दूसरा महीना खत्म होने को आया, लेकिन इन 60 दिनों में ऐसा एक भी काम दिखाई नहीं देता जिसकी प्रशंसा की जाए। तथ्यों पर देखें तो मोदी सरकार ने अब तक जो भी कदम उठाए हैं उनको लेकर जनता को सिर्फ निराशा ही हाथ लगी है। चाहे जनता से जुड़ा महंगाई का मुद्दा हो या फिर प्रशासनिक और न्यायिक नियुक्तियों का या फिर सीमा पार से चल रहे आतंकवाद और घुसपैठ का।

?

विवेकानंद


चुनाव जिताने का मापदण्ड और

एक भिन्न दल होने का दावा

     क व्यक्ति के चार बेटे थे। पहला बेटा डाक्टर था, दूसरा वकील था, तीसरा इंजीनियर और चौथा कोई अवैध काम करता था। डाक्टर और वकील की प्रैक्टिस सामान्य थी व इंजीनियर नौकरी पाने के लिए भटक रहा था। चौथा बेटा घर में सबसे ज्यादा सम्मानित और प्रिय था क्योंकि घर उसी की कमाई से चल रहा था। भारतीय जनता पार्टी ने भी अपने चौथे बेटे को अपना सबसे ऊंचा पद देते हुये तर्क दिया है कि उसने पिछले आम चुनाव में उत्तरप्रदेश का प्रभावी रहते हुए पार्टी को अस्सी में से इकहत्तर और सहयोगी दल की दो सीटें मिला तिहत्तर सीटें जिता कर केन्द्र में पूर्ण बहुमत वाली पहली भाजपा सरकार बनवायी है।

 ? वीरेन्द्र जैन


नरेन्द्र मोदी ने एक और वायदा तोड़ा

      रेन्द्र मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान जो भी वायदे किए थे उन्हें तोड़ने का सिलसिला अबाध रूप से जारी है। वायदा तोड़ने की इसी कड़ी में अमित शाह को भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाना भी जुड़ गया है। सभी को याद होगा कि नरेन्द्र मोदी ने बार-बार घोषणा की थी कि वे संसद को अपराध में लिप्त सदस्यों से पूरी तरह मुक्त करा देंगे। इस वायदे से पूरी तरह से मुकरते हुए उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति को भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष बनवा दिया जिसके विरूध्द एक नहीं बल्कि अनेक आपराधिक मामले अदालतों में चल रहे हैं।

? एल.एस. हरदेनिया


इति संघ नेता उवाच  

'चुनावी संघर्ष आज़ादी के ज़ंग के समकक्ष'

            नाब सुरेश सोनी, जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के बीच समन्वय का काम देखते हैं, जिन्होंने पिछले साल भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्रीपद के प्रत्याशी के तौर पर जनाब नरेन्द्र मोदी की नियुक्ति में अहम भूमिका निभायी थीं, इन दिनों कुछ गलत वजहों से चर्चा में हैं।

 

 ?  सुभाष गाताडे


यूनिफार्म सिविल कोड और मुस्लिम महिलाओं के

नागरिक अधिकार का सवाल

           र्सनल लॉ आधुनिक और धर्मनिरपेक्ष भारत में आधुनिक और धर्मनिरपेक्ष भारत में मुस्लिम महिलाओं को एक नागरिक के रूप में मिले अधिकारों को नकारता है। अगर हम इसी देश में ही अलग अलग समुदायों के औरतों के लिए बने कानूनों को देखें तो इसमें भारी अंतर पाते हैं - मुस्लिम कानून में पुरुष को कई पत्नियां रखने का हक है जबकि हिन्दू, ईसाई व पारसी एक ही पत्नी रख सकते हैं।

? जावेद अनीस


अन्तरराष्ट्रीय मुद्राकोष के सर्वेक्षण के निहितार्थ

      न्तरराष्ट्रीय मुद्राकोष के एक ताजा सर्वेक्षण के अनुसार भारत में ईंधन पर दी जाने वाली सरकारी सहायता का अधिकांश हिस्सा अमीर लोग ले रहे हैं। रिपोर्ट कहती है कि ऐसी योजनाओं का लक्ष्य ठीक से न रखे जाने के कारण हालत यह है कि देश के 10 प्रतिशत सबसे अमीर परिवारों को देश के 10 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों के मुकाबले 07 गुना अधिक फायदा मिल रहा है!

?  सुनील अमर


शिक्षकों की मनमानी, बच्चों की परेशानी

     शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने  के लिए केन्द्र और राज्य की सरकार ने इस वर्ष भी बजट में पहले की तुलना में अधिक राशि का प्रावधान किया है। इसके बाद भी शिक्षा के गलियारों में अव्यवस्था का आलम बरकरार है। अच्छी शिक्षा देने का दावा करने वाले  निजी स्कूल सरकार के नियत्रंण से मुक्त होकर मनमानी फीस लेने में जुटे हैं तो दूसरी ओर सरकारी स्कूल शिक्षकों की कमी,शैक्षणिक गुणवत्त के जरूरी साधनों के अभाव से जूझ रहे है।

? अमिताभ पाण्डेय


बिहार में जिंदा है जमींनदारी प्रथा

        धी रात को एक जमींनदार ;तथाकथित की बहू दबे कदमों से चलती हुईं शादी में मिले घूंघट की साड़ी को बेचने के लिए किसी के घर पहुंचती है। वह डरी और सहमी हुई है। डर का कारण कोई देख न ले, और सहमने की वजह, साड़ी बिकेगी या नहीं, से है। जिनसे साड़ी बेचने जाती है वह दयावान औरत साड़ी भी लौटा देती है और जरूरत के लिए कुछ पैसे भी दे देती है। एहसान की बोझ तले दबे कदमों से जमींनदार की बहू बचते-बचाते घर लौट जाती है।       

? डा. दुलार बाबू ठाकुर


बलात्कार और नाबालिग उम्र

      हिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने 'किशोर आपराधिक न्याय' ;देखभाल एवं बाल सरंक्षण कानून 2000 के स्थान पर नया कानून 'किशोर न्याय विधेयक-2014' लाने का संकल्प लिया है। उन्होंने इस बाबत समाचार चैनलों पर बयान भी दिए और प्रस्तावित विधेयक का प्रारूप इंटरनेट पर भी लोगों के सुझाव के लिए डाल दिया है। सब जानते हैं कि इस कानून में संशोधन बहुचर्चित 23 वर्षीय फिजियोथैरेपिस्ट छात्रा से दूराचार व हत्या की पृष्ठभूमि से जुड़ा है। इसे हम निर्भया बलात्कार कांड के नाम से भी जानते हैं। दरअसल इस सामूहिक बर्बरता में एक नाबालिग अभियुक्त भी शामिल था।

? प्रमोद भार्गव


दस वर्ष दूर है बुलेट ट्रेन का सपना

        ज चारों तरफ बुलेट ट्रेन की ही चर्चा है। हर कोई उस पर बैठने का सपना देखने लगा है। इस सपने को हकीकत में बदलने के लिए देश को ही नहीं, बल्कि एक आम आदमी को भी बहुत कुछ देना पड़ सकता है। बुलेट ट्रेन का गणित इतना आसान नहीं है, जितना बताया जा रहा है। बुलेट ट्रेन चलाने के लिए जितने धन की आवश्यकता होगी, उतना धन रेल्वे के पास है ही नहीं। यदि विदेशी कंपनियां इस दिशा में आगे बढ़ती हैं, तो वे भी यह अच्छी तरह से जानती हैं कि जिस प्रोजेक्ट में लाभ है ही नहीं, उस पर निवेश करना कहां की समझदारी है।                    

? डॉ. महेश परिमल


आमिर पर किसका अख्तियार?

      टीवी कार्यक्रम सत्यमेव जयते के जरिये सामाजिक विषयों पर सवाल खड़ा करने वाले बॉलीवुड के अभिनेता आमिर खान इन दिनों खासी चर्चा में हैं। आमिर के कैम्पेन वोट फार चेंज का असर देश के तमाम हलकों सहित खुद उनके पुश्तैनी गांव शाहबाद स्थित अख्तियारपुर में कितना है, यह देखना दिलचस्प है। उत्तर प्रदेष के हरदोई जिले से 40 किलोमीटर दूर अख्तियारपुर, शाहबाद पहुंचने पर तेज गर्मी के बावजूद पेड़ों पर लदे हुए आम रुह को राहत देते हैं। यहां आमिर खान के घर का पता पूछो तो लोग अनमने भाव से खिसकने की कोशिश करने दिखते हैं।

? शाह आलम


  21 जुलाई - 2014

Designed by-Altius Infotech
Copyright 2007 Altius Infotech All Rights Reserved