संस्करण: 20 अक्टूबर- 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


बीजेपी की बेईमानी

     यूपी के मेरठ के बहुचर्चित लव जेहाद मामले में बीजेपी के चेहरे से नकाब उतर गया है। जिस लड़की को आधार बनाकर बनाकर बीजेपी ने लव जेहाद का मुद्दा खड़ा किया था उसके ताजा बयान और उसके बाद सामने आई बीजेपी के व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष विनीत अग्रवाल की सात अगस्त की तस्वीर ने साफ कर दिया है कि बीजेपी ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए देश के दो समुदायों में जहर बोने का षडयंत्र किया था। 

? विवेकानंद


साझी विरासत के कत्ल को तैयार सांप्रदायिक ताकतें

        मेरठ का खरखौदा सामूहिक बलात्कार और धर्म परिवर्तन मामला, जिसे लव जिहाद का नाम दिया गया, के झूठे होने की बात सामने रही है। पीडि़ता ने खुद ही पुलिस के पास जाकर यह बयान दिया है कि तो उसका अपहरण और बलात्कार किया गया था और ही उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया था। बल्कि, वह अपनी मर्जी से दूसरे समुदाय के अपने प्रेमी के साथ गई थी। उसने अपने परिवार से ही जान का खतरा होने की शिकायत दर्ज कराई है। उसने यह भी बताया कि घरवालों को नेताओं से पैसे मिलते थे जो कि अब बंद हो गए हैं।

? राजीव यादव


स्वच्छ भारत अभियान का निहितार्थ

     स्वच्छता सुन्दरता की पहली सीढी है। ब्रेख्त ने कहा है- सुन्दरता संसार को बचायेगी।

                 गालिब के इस व्यंग्य में दर्द था कि- दरो-दीवार पर उग आया है सब्जा गालिब, हम बियावाँ में हैं और घर में बहार आयी है. या- है खबर गर्म उनके आने की, आज ही घर में बोरिया हुआ।

 ? वीरेन्द्र जैन


आखिर क्यों रही आतंकवाद पर चुप्पी

      हा ही में समाजवादी पार्टी का तीन दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन लखनऊ में संपन्न हुआ। सम्मेलन में देश के वर्तमान राजनैतिक परिदृष्य, लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार की वजहों की समीक्षा, आगामी सामाजिक-राजनैतिक दिशा और सन् 2017 में उत्तर प्रदे में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भावी राजनीति की रूपरेखा तय किए गए। इस सम्मेलन में समाजवादी पार्टी ने सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने, देश में फासीवाद के बढ़ रहे खतरे, कथित पूंजीवाद के खिलाफ सड़क पर उतरने तथा मुसलमानों पर एक बार फिर से पकड़ मजबूत करने के तौर-तरीकों पर विचार-विमर्श किया।

? हरे राम मिश्र


जिहादी जो अपने शूरवीरों को पकड़ी गई यजीदी महिलाओं और बच्चों को उपहार के रूप में देकर सम्मानित कर रहे हैं

            समय दुनिया के अनेक मुस्लिम बहुल देशों में बड़े पैमाने पर खूनखराबा हो रहा है। अनेक आतंकवादी समूह जो अपने आप को जिहादी कहते हैं इस्लाम के नाम पर अनेक ऐसी बर्बर हरकतें कर रहे हैं जिनके बारे में देखकर और सुनकर यह नहीं कहा जा सकता कि यह सब 21वीं सदी में हो रहा है।

  ?  एल.एस.हरदेनिया


बंगाल को पोरिवर्तन की आस 

         बंगाल की जिस धरा ने देश को क्रांतिकारियों से रूबरू करवाया, आज वही धरा आतंकियों के नापाक मंसूबे से लाल होई जा रही है। 34 वर्षों तक जिस लाल सलाम के झंडे को रौंदकर ममता बैनर्जी ने राज्य की सत्ता संभाली थी, वे ही अब संदेह और सवालों के घेरे में हैं। बर्धमान बम विस्फोट की जांच से जो तथ्य छन-छनकर सामने रहे हैं उनसे तो यही जान पड़ता है

? सिद्धार्थ शंकर गौतम


सतर्कता से हारा हुदहुद

      स बात की प्रबल आशंका थी कि बंगाल की खाड़ी से उठने वाला चक्रवाती तुफान हुदहुद ओडिसा और आंध्रप्रदेश के एक बड़े हिस्से को तबाह कर सकता है। पर शुक्र है कि सतर्कता की वजह यह तूफान उस तरह विनाशकारी साबित नहीं हुआ जैसा कि अनुमान लगाया जा रहा था। मौसम विज्ञानियों ने चेतावनी दे रखा था कि 190 किमी की रतार से आगे बढ़ रहा हुदहुद ओडिसा और आंध्रप्रदेश के समुद्रतटीय इलाकों में प्रलय मचा सकता है। लेकिन तटीय इलाकों से टकराने के बाद उसकी तीव्रता कमजोर पड़ गयी।

? अरविंद जयतिलक


मनरेगा बदलने का मन

     हात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना जैसा कि नाम से बजाहिर है, ग्रामीण बेरोजगारों के लिए सरकार द्वारा सामाजिक सुरक्षा भुगतान देने की योजना है। योजना के तहत सरकार, गरीब परिवारों को साल में कम से कम 100 दिन का रोजगार देती है। यही नहीं योजना में यह भी प्रावधान है कि, जिन लोगों को काम नहीं मिल पाता, उन्हें बेरोजगारी भत्ता मिले। यह योजना साल 2006 से जब दे में अमल में आई तो ग्रामीण भारत में कई अहमतरीन बदलाव देखने को मिले।

? जाहिद खान


नोबल पुरस्कार पर विशेष

जो कुछ में कर रहा हूं यही मेरी योग्यता है

        संभवतः सन 2005 की बात है, एक शाम मैं सहारा समय समाचार चैनल देख रहा था तो एक समाचार प्रसारित हुआ कि कैलाश सत्यार्थी का नाम नोबल पुरस्कार के प्रस्तावित हुआ है। मुझे इस  बात पर आश्चर्य हुआ। मैं तब मध्य प्रदेश के धार जिले में था वहां से मैंने इस बात की पुष्टि करनी चाही।  

? शैलेंद्र चैहान


घातक है ऑनलाइन शॉपिंग

      रीददारी इंसानी फितरत है। इंसान सब कुछ छोड़ सकता है, किंतु अपने लिए सामानों की खरीददारी नहीं छोड़ सकता। इसी इंसानी फितरत पर टिका है आज का बाजार। पहले इंसानों को किसी वस्तु से परिचित कराना, फिर यह बताना कि यदि यह वस्तु आपके पास नहीं है, तो आप पिछड़े हुए हैं। आपके लिए यही वस्तु बहुत ही उपयोगी है। बाजार के इस मायाजाल का सबसे अधिक शिकार होती हैं, महिलाएं। उनके पास सब कुछ होते हुए भी उन्हें यह अहसास होता है कि उनके पास जो कुछ है, उससे अधिक उसके पड़ोसी या किसी सखी के पास है।

? डाॅ. महेश परिमल


चीन के मुकाबले उच्च शिक्षा में पिछड़ते हम ? 

        बर है कि चीन पिछले तीन दशकों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में प्रमुख योगदान कर्ता के रूप में सामने आया है।वैश्विक विज्ञान जगत में ज्ञान के बड़े स्त्रोत के रूप में उभार का संबंध केवल संख्या में ही नहीं बल्कि गुणवत्ता के लिहाज से भी काफी महत्तवपूर्ण है।शोध पत्रों के प्रकाशन के मामले मे भी चीन  काफी तेज गति से आगे बढ़ रहा है।                    

? डाॅ. सुनील शर्मा


पोर्न रोकने में क्यों लाचार है सरकार

पोर्न के खिलाफ बड़े अभियान की जरुरत

      इंटरनेट पर पॉरनॉग्रफी के बढ़ते चलन से चिंतित सुप्रीम कोर्ट ने इस पर रोक को लेकर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। कोर्ट ने लगभग एक महीने पहले सरकार को जवाब दाखिल करने के लिए छह हते का वक्त दिया गया था, जो अब पूरा होने वाला है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अश्लील वेबसाइटें, खासकर बच्चों से जुड़ी वेबसाइटें भारत में बच्चों को पॉरनॉग्रफी की तरफ  धकेल रही हैं।

? शशांक द्विवेदी


  20  अक्तूबर- 2014

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved