संस्करण: 20  जनवरी - 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


आगामी आम चुनाव का परिदृष्य

     कुछ दिनों पहले तक यूपीए सरकार की एंटी इनकम्बेंसी, प्रशासनिक भ्रष्टाचार, और मंहगाई का लाभ उठा कर सत्ता पा लेने के लिए भाजपा पत्तल बिछा कर बैठ गयी थी और विख्यात के अभाव में उसने अपने सबसे कुख्यात नेता को प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित कर उसकी बारात निकालने में लग गयी थी। इस बीच हुये पाँच विधानसभाओं के चुनावों में वे दो राज्यों में सरकार बचाने एक में छीनने और एक में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में प्रकट होने में सफल हो गये। पाँचवें राज्य में उनका अस्तित्व नहीं है।  

? वीरेन्द्र जैन


राहुल की बात को कांग्रेसी भी समझे और जनता भी

        कांग्रेस उपाध्यक्ष ने हाल ही में वो कह डाला जिसका लाभ विपक्ष उठा रहा है।  यानि विपक्ष का दुष्प्रचार जितना आक्रामक है, कांग्रेसी अपनी सरकार की उपलब्धियां भी उतनी आक्रामक तरीके से जनता को नहीं बता पा रहे हैं। राहुल गांधी की यही तकलीफ पिछले दिनों सामने आई। उन्होंने बेंगलूरू में कहा कि कांग्रेस ज्यादा काम करती है, लेकिन उन्हें उतने अच्छे ढंग से प्रचारित नहीं कर पाती,जिस तरह विपक्षी दल करते हैं। हमारा काम अच्छा है, लेकिन मार्केंटिंग खराब है।

?

विवेकानंद


क्या मोदी जानते हैं कि संघ और गोलवलकर देश के

संघात्मक ढांचे के विरोधी थे

     पिछले रविवार (12 जनवरी 2014) को गोवा में एक आमसभा को संबोधित करते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यह आरोप लगाया कि केन्द्र की वर्तमान सरकार हमारे देश के संघीय ढांचे को कमजोर कर रही है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि केन्द्र की सरकार राज्य के मामलों में अनावश्यक हस्तक्षेप करती है। उन्होंने यह आष्वासन दिया कि जब वे सत्ता में आयेंगे तो देश के संघीय ढांचे को और अन्य संघीय संस्थानों को और मजबूत करेंगे।

 ? एल.एस.हरदेनिया


छवि बदलने को परेशान मुलायम !

      मुजफ्फरनगर में राहत कैंपों में रह रहे दंगा पीड़ितों को लेकर नेताजी मुलायम सिंह यादव ने हाल में जो बयान दिया, वैसा बयान आमतौर पर मुलायम सिंह देते नहीं हैं।

               हाल ही में राहुल गांधी द्वारा मुजफ्फरनगर के राहत कैंपों का दौरा करने व पीड़ितों के तमाम सवाल उठाने के बाद फौरी प्रतिक्रिया में नेताजी ने दावा कर दिया कि राहत कैंपों में एक भी दंगा पीड़ित नहीं रह रहा है। उनका मानना है कि वहां रह रहे लोग भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं जो बिना वजह मामले को जिंदा रखना चाहते हैं।

? अनुज शुक्ला


जनता का जासूसीकरण

              'आप' ने सरकारी दफ्तरों में भ्रष्टाचार से निपटने के लिए आम लोगों को 'स्टिंग'करने का खुला न्यौता दिया है। तर्क दिया जा रहा है कि 'स्टिंग'से मिले सुबूतों के जरिये भ्रष्ट कर्मचारी-अधिकारियों को पकड़ने में मदद मिलेगी। 'आप'के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जब भ्रष्टाचार से निपटने के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया तो उसके साथ ये भी कहा गया कि लोग भ्रष्टाचार निवारण ब्यूरो के साथ मिलकर स्टिंग ऑपरेशन करे जिसमें फंसे लोगों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

 ?   विजय प्रताप


'आप' को

पालन करना होगा राजधर्म

           म आदमी पार्टी, संक्षेप में 'आप' के प्रवर्तक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आज के दौर में राजनेताओं द्वारा प्रचलित किए गए तमाम सरकारी तामझाम को अपनाने से साफ इनकार कर दिया है और सरकार गठन के बाद से अभी तक अपने इस रवैये पर सख्ती से कायम हैं। उनके इस तौर-तरीके से दिल्ली सरकार के मंत्रियों को जो भी दिक्कत हो रही हो, जनता को भी कई असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है और सबसे बड़ा प्रश्न तो सुरक्षा का उठ खड़ा हुआ है।  

? सुनील अमर


अमन के सबसे बड़ा खतरा किससे है ?

      गर दुनिया के 68 मुल्कों की - सर्वेक्षण में शामिल - चौबीस फीसदी जनता एक मुल्क विशेष को निशाने पर ले लें तो तय बात है कि उस मुल्क के नीतिनिर्माताओं को अपने बारे में सोचने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है। इतनाही नहीं ऐसे सर्वेक्षण में जब आप के दोस्त या सहयोगी मुल्क भी शामिल हों या अपने मुल्क की जनता भी यह सोचती हो, तो कोईभी कहेगा कि 'मामला वाकई कुछ गडबड है।'

?  सुभाष गाताड़े


घर, समाज और धार्मिक नेता सभी की ''चिन्ता'' है औरत

     ख़बार के एक ही पेज पर तीन ख़बरें हैं और तीनों में अलग अलग छोर पकड़ कर औरत पर लगाम कसने का प्रयास दिखता है। एक तरफ हरिद्वार के सहारनपुर के सलेमपुर गांव में अन्तरधर्मीय विवाह को लेकर बैठी पंचायत द्वारा जारी फरमान का उल्लेख है जिसमें प्रेमविवाह कर भागे युगल को चेतावनी दी गयी है कि वह युवती तत्काल घर लौटाये नहीं तो सर्वसमाज सड़क पर उतरेगा। घरवालों का कहना है कि पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। लड़की हिन्दू और लड़का मुस्लिम है। इस प्रकरण को लेकर हिन्दू संगठनों ने पंचायत के फैसले का समर्थन दिया तथा इस पूरी मुहिम को स्वाभिमान बचाओ हिन्दू महापंचायत का नाम दे दिया।

 

? अंजलि सिन्हा


आरटीआई से छात्र वर्ग वंचित क्यों?

        जकल आरटीआई यानी सूचना का अधिकार की बड़ी चर्चा है। कांग्रेस ने इस लागू कर लोगों पर बहुत ही बड़ी कृपा की है। इसके आधार पर कई बार सरकार को कुछ गोपनीय जानकारी को भी सार्वजनिक करना पड़ता है। कई बार देश हित में जानकारी देने के लिए इंकार भी किया जाता है। सच है हर किसी को यह जानने का अधिकार है कि उसके द्वारा चाही गई जानकारी को सार्वजनिक किया जाए। सूचना के इस अधिकार के तहत कई तरह की महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आईं हैं। लेकिन एक क्षेत्र ऐसा भी है,जो सूचना के इस अधिकार से कुछ लोगों को वंचित करता है। ये वंचित वर्ग है विद्यार्थी!  

? डॉ. महेश परिमल


फेरी वालों के संरक्षण हेतु यूपीए सरकार का उपहार!

      कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गॉधी का यह कहना कि यूपीए सरकार अपने  जनहितैषी कार्यों का प्रचार प्रसार नहीं कर पाई कई मायनों में बिल्कुल सही है। क्योंकि इस सरकार ने अपने दो कार्यकालों के दौरान देश के आम आदमी को अनेक महत्तवपूर्ण अधिकार दिए है,आज से दस साल पूर्व जिनकी कल्पना भी आम आदमी के जेहन में नही रही होगी। लेकिन तमाम विरोधों के बीच यूपीए के योजनाकारों ने इन अधिकारों  को कानूनी जामा पहनाकर आम आदमी को अधिकार संपन्न बनाया हैं।       

? डॉ. सुनील शर्मा


एक और बड़ी सफलता क्रायोजेनिक इंजन

        देश का दशकों पुराना सपना तब हकीकत में बदल गया जब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन(इसरो)ने पूर्ण स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन के जरिए जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लांच व्हीकल (जीएसएलवी-डी-5)के जरिए श्री हरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 1982 किलोग्राम वजनी संचार उपग्रह जीसैट-14 को अंतरिक्ष की कक्षा में सटीक ढंग से स्थापित कर दिया। जीएसएलवी की सफल उड़ान भारतीय वैज्ञानिकों की मेहनत का सबसे बड़ा पुरस्कार है। जीएसएलवी मिशन के निदेशक के.शिवन के मुताबिक इस रॉकेट की एक हजार सेकंड की उड़ान के पीछे विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर, लिक्विड प्रोपल्शन सिस्टम्स सेंटर और इसरो के वैज्ञानिकों की एक हजार दिनों की कड़ी मेहनत है।

? नरेन्द्र देवांगन


26 जनवरी : गणतंत्र दिवस पर विशेष

गणतंत्र दिवस : राष्ट्रीय चेतना का पर्व

      णतंत्र दिवस की यह चौसठवीं वर्षगांठ है। भारतीण गणतंत्र 63 बरस का हो गया। साठ वर्ष की उम्र में आदमी अपने जीवन के महत्वपूर्ण सोपान तय कर एक ऐसे मुकाम पर पहुंच जाता है, जहां वह स्वयं की उपलब्धियों पर गौरवान्वित हो सकता है। स्वतंत्र भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया और देश को सर्व प्रभुत्व सम्पन्न समाजवादी धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्रीय गणराज्य घोषित किया गया। संविधान ने सभी भारतीयों को समान रूप से अनेक अधिकार प्रदान किये। संविधान का उद्देश्य सभी नागरिकों को राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक अधिकार व न्याय दिलाना, वैचारिक अभिव्यक्ति पद एवं अवसर की समानता सुलभ कराना तथा व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की अखण्डता कायम रखना है।       

? डॉ. गीता गुप्त


  20जनवरी  -2014

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved