संस्करण:  20 दिसम्बर-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


हेमंत करकरे की मौत को
राजनीतिक रूप क्यों नही दिया जा सकता?


  यह वाकई में दुर्भाग्यपूर्ण है कि मारे गए आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) के प्रमुख की विधवा हेमंत करकरे की मौत के संबंध में अब यह कह रही है कि इसे राजनीतिक रूप दिया जा रहा है, जब पूरी जांच और 26/11 सुनवाई चल रही है। >फरजाना हर्षे


हेमन्त करकरे के नए खैरख्वाह


 पने आप को पारदर्शी कहलानेवाले, स्वतंत्र मीडिया की मौजूदगी का दम्भ भरनेवाले मुल्कों में भी कई बार कई राजनीतिक किस्म की हत्याओं पर से वास्तविक परदा कभी नहीं उठ पाता। हत्या को लेकर नई नई थियरी पेश की जाती ह>सुभाष गाताड़े


...लेकिन इन्हें शर्म नहीं आती

 

  संसद का शीतकालीन सत्र समाप्त हो गया, जिसका सबसे उल्लेखनीय और शर्मनाक पहलू यह है कि इसमें एक मिनट भी कोई चर्चा नहीं हुई। भारत जैसे ग़रीब देश के डेढ़ अरब रुपए पानी में बह गए और नतीजे के रूप में सिर्फ़ हंगामा ही मिला। >महेश बाग़ी


हमारे लोकतंत्र के सभी खंभों में दरार आ गई है
 

 

  पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम ने हमारे लोकतंत्र के सभी खंभों की कमजोरियों को उजागर कर दिया है। दु:ख की बात यह है कि अन्यों के अतिरिक्त, देश के चारों स्तभों को कमजोर करने में सबसे बड़ी विरोधी पार्टीं।>एल.एस.हरदेनिया


घोषणावीर जमा लेते है राज्य की सत्ताओं पर कब्जा
नाकामयाबियों का ठीकरा फोड़ते हैं केंद्र पर

 

  स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत में प्रजातांत्रिक पध्दति से संचालित सत्ता द्वारा विकास और जनकल्याण के कार्यक्रमों और योजनाओं की जो बुनियाद रखी गई थी उसके मजबूत खम्भों पर आज देश की एक बुलंद पहचान कायम हुई है।>राजेंद्र जोशी


कानकुन जलवायु सम्मेलन
एक कदम आगे तो दो कदम पीछे


 मैक्सिको के कानकुन में हुआ 16वां जलवायु परिवर्तन विषयक सम्मेलन अमेरिका और विकसित मुल्कों के अड़ियल रवैये के चलते बिना किसी ठोस नतीजे के खत्म हो गया।>महेश बाग़ी


उप्र भाजपा और
उमा भारती की वापसी

 

 पिछले सात-आठ वर्षों से अस्त-व्यस्त पड़ी उ.प्र. भारतीय जनता पार्टी को पुनर्जीवित करने का जिम्मा अब उन उमा भारती को दिया जा रहा है, जिन्हें लगभग 5 वर्ष पूर्व पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाकर निष्कासित कर दिया गया >सुनील अमर


यह ब्लैकमेलरों की भाषा है

 

 भी अपने आप को मुलायम सिंह का हनुमान और कभी टेलर बताने वाले अमर सिंह ने अब कहना शुरू कर दिया है कि अगर उन्होंने मुँह खोल दिया तो>वीरेंद्र जैन


ऐतिहासिक फैसला:
बेटियों की भी जिम्मेदारी है मातापिता
 

 

 किशोर तीन बहनों में अकेला भाई। छोटी मोटी नौकरी करता है। और किसी तरह अपने परिवार का गुजारा कर लेता है। साथ में उसे अपने माता पिता की जिम्मेदारी भी उठानी पड़ती है। ऐसा नहीं कि बाकी बहनें उससे विपन्न हैं।>अंजलि सिन्हा


हुड्डा कार्यदल की अनुशंसाओं से
किसानों की बेहतरी की आशा

 

 केंद्र सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र को बेहतर बनाने की संभावनाए तलाशने हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की अध्यक्षता में बनाए गए कार्यदल ने अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री को सौंप दी है।>डॉ. सुनील शर्मा


प्रतिभाओं को नजरअंदाज करती
मध्यप्रदेश सरकार

 पेक्षा किसी की भी हो, अच्छी बात नहीं है। उपेक्षित इंसान कभी-कभी हताश होकर अपनी क्रियाशीलता को खत्म कर देता है। पर उसके मन में हमेशा यही भाव होता है कि यहाँ यदि मेरी कला के जौहरी नहीं मिलेंगे, तो निश्चित ही वह जौहरी कहीं और होगा।>डॉ. महेश परिमल



20 दिसम्बर-2010 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved