संस्करण: 01 दिसम्बर- 2014

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


सार्क में क्या सिकुड़ गया था 56 इंची सीना

     लोकसभा चुनाव से पहले झूठ की नैया पर सवार हुई बीजेपी छप्परफाड़ बहुमत से चुनाव जीतने के बाद भी अपने दिमागफाड़ बतोलेबाजी से बाज नहीं आ रही है। हाल ही में हमारे माननीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह जी ने बताया कि भारत का मोस्ट वांटेड आतंकी दाउद इब्राहिम पाकिस्तान और अफगानिस्तान की सीमा पर रह रहा है। गृहमंत्री जी का कहना था कि मीडिया में चल पड़ा डॉन को पकडना नामुमकिन नहीं मुमकिन है।  

? विवेकानंद


गांधी की तारीफ हृदय परिवर्तन नहीं मोदी का अवसरवाद है

        प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तमाम जुमलेबाजियों के बाद भी ऐसा कुछ होता हुआ नहीं दिख रहा है जिससे लोगों को अच्छे दिनों के आने की आहट भी मिल सके। वहीं अब यह भी साफ होता जा रहा है कि चुनाव पूर्व अपने वादों के अनुरूप सरकार के पास देश को आर्थिक महाशक्ति बनाने या अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किसी महत्वपूर्ण भूमिका के लिए भी कोई रोडमैप नहीं है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें सरकार अपने ही चुनाव पूर्व किए गए भारी भरकम वादों के दबाव में आ गई दिखती है।

?

मसीहुद्दीन संजरी


राहुल को साहसी बनना होगा

     चपन में जो चीजें मुझे सबसे अच्छी लगती थीं उनमें से एक थी पौराणिक कथाएं सुनना। मैं उस दुनिया में खो जाता था जिसमें भगवान हनुमान, अपनी श्रद्धा के पात्र श्रीराम के भाई लक्ष्मण की जान बचाने के लिए हवा में उड़कर जड़ीबूटी लेने जाते हैं, भगवान राम, पुष्पक विमान में यात्रा करते हैं और जब भगवान गणेश के पिता, उनका सिर काट देते हैं तब उनके धड़ पर हाथी का सिर लगाकर उन्हें पुनर्जीवित किया जाता है।

 ? मणिशंकर अय्यर


लोकतंत्र का स्याह पक्ष हैं ये आंकड़े

      भी कुछ दिन पहले ही नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की ओर से देश की जेलों मे बंद कैदियों की संख्या तथा उनके धर्म एवं समुदाय आधारित आंकड़ों वाली एक विस्तृत रिपोर्ट जारी की गई। रिपोर्ट में सन् 2013 तक के आंकड़े दिए गए हैं जिसमें कहा गया है कि देश की जेलों में बंद कुल कैदियों की संख्या का 53प्रतिशत मुस्लिम, दलित और आदिवासी वर्ग से आते हैं। सन् 2013 तक देश की जेलों में 4 लाख 20 हजार लोग बंद थे जिनमें 68प्रतिशत संख्या उन कैदियों की थी जिनके मामलों का अदालती ट्रायल चल रहा था।

? हरे राम मिश्र


बेजबरुआ कमेटी की रिपोर्ट पर चुप क्यों है मोदी

           पिछले दिनों दिल्ली में एक और मणिपुरी छात्र जिनग्रान केन्जू का शव उनके घर से बरामद हुआ। उनके शरीर पर कई जगह गहरे जख्मों के निशान थे। गृह मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले तीन सालों 2011 से 2012 में पूर्वोत्तर के लोगों के साथ अपराध में 270 फीसदी की वृद्धि हुई है। जिसमें छेड़खानी की घटनाओं में 177 फीसदी और बलात्कार में 17 फीसदी की वृद्धि हुई है।

  ?  राजीव कुमार यादव


इस आदमी की जमातलाशी तो लीजिए

         खबार में कोई दिन ऐसा नहीं जाता जब कोई बाबा, पुजारी. संत, महंत, पादरी, मौलवी, योग गुरु, ज्योतिषी, चमत्कारी, या किसी न किसी पंथ की एजेंसी रखने वाला किसी अपराध में न पकड़ा जाता हो। मजे की बात यह है कि इन अपराधियों की पक्षधरता करने वाले वे लोग होते हैं जिनको ठगे जाने का नम्बर अभी नहीं लगा है और यह काम भविष्य में होने वाला है।

? वीरेन्द्र जैन


गैस पीडि़तों के साथ धोखे का अंतहीन सिलसिला

      2-3 दिसंबर 1984 की भयानक रात यूनियन कार्बाइड काॅर्पोरेशन के भोपाल स्थित संयंत्र में नियमित रख-रखाव कार्य के दौरान रिसते हुए वाल्वों व जंगदार पाइपों के माध्यम से बहुत सारा पानी एक स्टोरेज टैंक में घुस गया। इसके कारण 60 टन प्राणघातक रसायन मिथाइल आइसो सायनेट (टी.एल.वी 0.02 पीपीएम) से भरे टैंक क्रमांक ई-610 में प्रतिक्रिया स्वरूप भारी मात्रा में गर्मी व दबाव उत्पन्न हुए और मिथाइल आइसो सायनेट, हाईड्रोजन साइनाइड, मोनो मिथाइल अमीन, कार्बन मोनोआक्साइड सहित 20 अन्य रसायनों का यह 40 टन जहरीला मिश्रण घने बादलों की शक्ल में फैलने लगा जबकि सुरक्षा तंत्र (जो कि अव्वल तो ऐसी जोरदार प्रतिक्रियाओं के लिहाज से नाकाफी थे) या तो बंद थे या ठीक से काम नहीं कर रहे थे या फिर उनकी मरम्मत हो रही थी।

? एल.एस.हरदेनिया


शरिया अनुकूल फंड: माजरा क्या है ?

     बर आयी है कि स्टेट बैंक आफ इंडिया अगले माह शरियत के हिसाब से संचालित म्युच्युअल फंड की शुरूआत कर रहा है। ब्रिटेन के बाद मुस्लिमबहुल देशों में ऐसी सुविधा शुरू करनेवाला भारत दूसरा मुल्क बना है। अभी जून माह में ही ब्रिटेन ने स्वयंभू इस्लामिक बाण्ड जारी किए हैं।

 

? सुभाष गाताड़े


गोद लेने की हवा चली है, आप भी ले लो

        दिल्ली एनसीआर के कुछ गांवों से खबर आयी थी कि वहां से चुने गए सांसद पर वह नाराज हैं, जिन्हें उन्होंने भारी वोटों से जीताया था। दरअसल नाराजगी की जड़ में प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गयी गांवों को गोद लेने की योजना है। समाचार के मुताबिक चूंकि सांसद महोदय ने उन्हें गोद न लेकर बगल का गांव गोद लिया इस वजह से वह नाराज हैं। निश्चितही उपरोक्त गांव की तरह देश के हजारों गांव हैं,उन्होंने भी उम्मीद पाली थी कि उन्हें भी कोई गोद लेगा,मगर वह भी ताकते ही रहे होंगे।

? अंजलि सिन्हा


क्या मनरेगा बची रहेगी?

      सा लगता है कि नरेन्द्र मोदी सरकार गांव के गरीब परिवारों के लिए वरदान बनी महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के खात्मे के लिए कमर कस चुकी है। मोदी सरकार ने पूरे देश में लागू इस योजना को अब 200जिलों तक सीमित करने का प्रस्ताव किया है। इसके साथ ही मोदी सरकार का दूसरा प्रस्ताव यह है कि परिसंपत्तियों के निर्माण की जरूरत के मद्देनजर किसी काम में श्रम के इतर होने वाले खर्चों को इस योजना में बढ़ाया जाएगा।

? रीना मिश्रा


6 दिसंबर: डॉक्टर भीमराव आंबेडकर पुण्यतिथि पर विशेष
युगदृष्टा डाक्टर भीमराव आंबेडकर

        भारतीय राजनीतिक-सामाजिक परिप्रेक्ष्य में छह दिसंबर बहुत महत्त्वपूर्ण हैं। एक तो डॉ. आम्बेडकर की यह पुण्यतिथि है, दूसरे यह बाबरी मस्जिद ध्वंस का भी दिन है। लेकिन पहले डॉक्टर भीमराव रामजी आंबेडकर की स्मृति को ताजा किया जाये फिर दूसरी बात पर आया जाए। डॉ.आंबेडकर एक बहुजन राजनीतिक नेता, और एक बौद्ध पुनरुत्थानवादी होने के साथ साथ, भारतीय संविधान के मुख्य वास्तुकार भी थे। आंबेडकर का जन्म एक गरीब अस्पृश्य परिवार मे हुआ था। आंबेडकर ने अपना सारा जीवन हिंदू धर्म की भेदमूलक वर्ण व्यवस्था, और भारतीय समाज में सर्वव्याप्त जाति व्यवस्था के विरुध्द संघर्ष में बिताया।

? शैलेन्द्र चैहान


वित्तीय साक्षरता के बिना नहीं चलेगी जनधन ?

      स समय समाचारों में सबसे ज्यादा सुर्खियों मोदी सरकार की वित्तीय समावेशन योजना- जनधन है। आंकड़ों के मुताबिक 28 अगस्त 2014 से प्रारंभ इस योजना में अब तक 7.5 करोड़ से ज्यादा बचत खाते खोले जा चुके है। इस योजना के मुख्य आकर्षण जीरो बैलेंस से एवं बगैर पहचान के खाता खोलाजाना, खाताधारी का मुफत में 1.30 लाख रूपये का दुर्घटना बीमा तथा छःमाह तक सफलतापूर्वक खाता संचालन के उपरांत 5 हजार रूपये का ओवर ड्राफट की सुविधा आदि हैं।

? डा. सुनील शर्मा


मिलावटी दूध का बढ़ता कारोबार

        देश में कई सालों से चल रहें मिलावटी दूध के कारोबार को लेकर सुप्रीम कोर्ट रुख सख्त हो गया है । सुप्रीम कोर्ट ने मिलावटी दूध के मामले में उदासीन रवैया रखने करने के लिए केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई तथा संसद के शीतकालीन सत्र में संबंधित कानून में बदलाव की उम्मीद भी जताई। न्यायमूर्ति एम.वाई. इकबाल और न्यायमूर्ति शिवकीर्ति सिंह की खंडपीठ ने मिलावटी दूध के कारोबार पर रोक लगा पाने में केंद्र और राज्य सरकारों की निष्क्रियता पर सवाल खड़े किए तथा इस संबंध में केंद्र सरकार से 4 सप्ताह के भीतर रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है।

? शशांक द्विवेदी


3 दिसंबर: विश्व विकलांग दिवस पर विशेष
...ताकि अभिशाप न बन पाए: विकलांग बच्चों का जीवन

      हाल ही में आन्ध्रप्रदेश के काकीनाड़ा में एक स्कूल में तीन नेत्रहीन छात्रों की पिटाई का वीडियो सामने आया है। पिटाई करने वाला व्यक्ति स्कूल का शिक्षक है। पुलिस ने शिक्षक और उसके सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार, जिले के रायुडुपालम क्षेत्र के ग्रीनफील्ड स्कूल में कक्षा में शोर मचाने पर छात्रों की पिटाई की गई। एक कर्मचारी ने अपने मोबाइल पर चुपके से घटना का वीडियो बना लिया और इसे आन्तरिक विवाद के बाद मीडिया में उजागर कर दिया। ऐसी घटनाओं से पता चलता है कि विकलांगता बच्चों के लिए कितना बड़ा अभिशाप है। शिक्षकों की क्रूरता और समाज की संवेदनहीनता ऐसे बच्चों को शिक्षा से विमुख कर देती है।

? डा. गीता गुप्त


  01 दिसम्बर- 2014

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved