संस्करण:  18 अक्टूबर-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


धर्म के खोटे सिक्के असली धर्म को बाहर किये हैं

  पिछले कुछ वर्षों से धर्म के नाम पर धोखा देने और सम्पत्ति हड़पने, महिलाओं का यौन शोषण करने, से लेकर हत्या तक के समाचार लगातार प्रकाश में आ रहे हैं।>वीरेंद्र जैन
 


कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या

  बसे अलग चाल, चरित्र और चेहरे की दुहाई देने वाली भारतीय जनता पार्टी का असली चेहरा कर्नाटक में सामने आ गया है।>मोकर्रम खान


गले तक भ्रष्टाचार में डूबी कर्नाटक सरकार का पतन तो होना ही था

 न् 2008 में संपन्न चुनावों के बाद कर्नाटक में पहली बार भाजपा की सरकार बनी। कर्नाटक क्या दक्षिण भारत में पहिली बार भारतीय जनता पार्टी को सत्ता का स्वाद चखने का अवसर मिला था।>एल.एस.हरदेनिया


अयोध्या फैसले पर अतिवादियों का मुँह बन्द क्यों

  योध्या विवाद पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय का फैसला आने के कुछ पहले ही विश्व हिन्दू परिशद के अध्यक्ष अशोक सिंहल ने अचानक यह कहना शुरू कर दिया था क>सुनील अमर


बदल रहा है राजनीति का मौसम, असर दिखा रही है राहुल-आंधी

 मौसम सदैव परिवर्तनशील होते हैं। कभी सर्द तो कभी गर्म होते मौसम झड़ी लगते ही एकदम से बदल जाया करते हैं। वायु के बढ़ते-घटते वेग का भी मौसमों के मिज़ाज पर गहरा प्रभाव पड़ता है।>राजेंद्र जोशी


सिमी से तुलना पर क्यों बौंखलाया है संघ


  नौजवानों के आईकॉन कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की संघ पर टिप्पणी से समूचा संघ परिवार बौखलाया हुआ है। संघ, खास तौर पर प्रतिबंधित अतिवादी संगठन सिमी से अपनी तुलना पर राहुल गांधी से खफा है।>जाहिद खान


मतदाता ही रोक सकता है अपराधियों को चुनाव लडने से !


   बिहार में आगामी दिनों में होने वाले विधानसभा चुनाव में एक बार फिर अपराधियों ने अपनी उम्मीदवारी घोषित कर दी है>चैतन्य भट्ट


भारत और चीन से भयभीत अमेरिका

  दुनिया की आर्थिक और सामरिक महाशक्ति माने जाने वाले देश अमेरिका को भारत और चीन जैसे विकासशील देश चुनौती दे रहे हैं, यह तथ्य जाहिर करता है कि धरती गोल भी हैं और घुमती भी है।>प्रमोद भार्गव


रंग लायी सरकार की मेहनत : भारत बना सुरक्षा परिषद का सदस्य

  12 अक्तूबर 2010 का दिन भारत के लिए यादगार बन गया। संयुक्त राष्ट्र महासभा की सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्यता प्राप्त करने के लिए किये जा रहे प्रयासों में अन्तत: भारत सरकार को सफलता हाथ लग गयी।>डॉ. गीता गुप्त


हम कब सुन पाएँगे, न्यायमूर्ति हाजिर हो!

  भ्रष्टाचारियों को न्यायाधीश दंड देते हैं। पर जब न्यायाधीश ही भ्रष्टाचारी हों, तो फिर उन्हें कौन दंडित करेगा? भारतीय परिवेश में आज यह यक्ष प्रश्न चारों तरफ से सुनाई दे रहा है।> डॉ. महेश परिमल


भूखों की बढ़ती आबादी

  इंटरनेशनल फूड पालिसी रिसर्च इंस्टीटयूट ने दो वैश्विक गैर सरकारी संगठनों वेल्थ हंगर हेल्प और कंसर्न वर्ल्डवाइड के सहयोग से वैश्विक भूख सूचकांक तैयार किया है>डॉ. सुनील शर्मा


18 अक्टूबर-2010 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved