संस्करण: 18अगस्त-2008

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT

मध्य प्रदेश में संस्कृति के बजट से आर.एस.एस. का प्रचार प्रसार

भारतीय जनता पार्टी की सरकार द्वारा मध्य प्रदेश में कला, साहित्य और संस्कृति के विकास के लिए निधर्रित बजट का उपभोग अपनी विचारधारा के प्रचार-प्रसार के लिए किया जा रहा है। सरकार द्वारा प्रदेश में सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने प्रदेश में सांस्कृतिक >अजय सिंह 'राहुल'

      


अमेरिकी खेल से रूस संकट में
क्षिणी ओस्सेतिया गणराज्य को लेकर जार्जिया और रूस के बीच छिड़ी जंग से संयुक्त राष्ट्र संघ, नाटो, आसियान, सार्क सभी स्तब्ध  है। हजारों डॉलर और सैकड़ों लोगों के हताहत के बाद भी तनाव, दहशत कायम है। पूर्व सोवियत >अंजनी कुमार झा


स्मृति : उषा तंवर मृत्यु के बाद जीवन !
डसठ साल की उम्र की उषा तंवर, जिनका समूचा जीवन अन्य सामान्य गृहिणियों की तरह ही बीता था, उसी तरह गुमनामी में ही गुजर जातीं अगर अपने इन्तकाल के पहले वह एक अहम फैसला नहीं करतीं ! फौज में लेफ्टनेन्ट कर्नल पद पर तैनात एक दिनेश तंवर की इस मां ने अपने मृत्यु के पहले इन्द्रियदान का वह फैसला लिया, और हम खुद देख सकते हैं कि उनके >सुभाष गाताड़े


  

निर्वाचन आयोग को मिलना चाहिए पंजीयन निरस्त करने के अधिकार
भारत के निर्वाचन आयोग के पास देश के राजनैतिक दलों के पंजीकरण की शक्तियां तो हैं किंतु पांच साल से अधिक समय तक चुनाव नहीं लड़ने वाले राजनैतिक दलों के पंजीकरण निरस्त करने की शक्तियाँ आयोग के पास नहीं हैं। इसका परिणाम यह हो रहा >राजेन्द्र जोशी


सोमनाथ चटर्जी के बहाने....
प्रत्येक संकट का एक उज्जवल पक्ष यह भी होता है कि उसके कारण मात्र अपनी न्यूनता की अनुभूति नहीं होती है, अपितु उस अक्षमता का समाधान ढूँढकर मानव समुदाय सदैव अपनी रचनात्मक जिजीविषा को सशक्त करता रहा है। वस्तुत: प्रत्येक व्यवस्था की सफलता का सर्वप्रथम आधार तदनुरूप निर्मित व प्रस्तुत होने वाली मानसिकता >पुनीत कुमार


राष्ट्रीय आपदाओं के साये में स्वतंत्रता दिवस

स वर्ष का स्वतंत्रता दिवस अनेक संकटों व अनेक आपदाओं के बीच में मनाया जाएगा। इन संकटों और आपदाओं की सूची में सर्वोच्च स्थान उस घटनाक्रम का है जिसने हमारे संसदीय प्रजातंत्र की विश्वसनीयता पर प्रश्न लगा दिया हैं। भारत दुनिया >एल.एस.हरदेनिया


कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष राजनीति समय व कृष्णकथा
पि छले दिनों लोकसभा में जब मनमोहनसिंह सरकार के विश्वासमत पर संसद में बहस चल रही थी तब भाजपा के नेताओं ने कार्यवाही के सिधे प्रसारण का लाभ देखकर देश भर की जनता को रामसेतु तोड़े जाने के नाम पर बरगलाने का प्रयास किया था जबकि प्रकरण अदालत में विचाराधीन था।  >वीरेन्द्र जैन

              


गरीब के शैक्षिक हठ के दुष्परिणामी
 बाजारवादी शिक्षा और अमीर व गरीब के बीच लगातार बढ़ती खाई ने शिक्षा हासिल करने की पवित्र इच्छा के बुनियादी अधिकार को कितना कठिन और असाध्य बना दिया है यह हकीकत विहार के पूर्णिया नगर में घटी एक  हृदय विदारक घटना से सामने आयी है। >प्रमोद भार्गव


फेडरल एजेंसी पर सियासत बेमानी यूपीए के प्रस्ताव को मिलना चाहिए समर्थन
रमाणु करार के बाद फेडरल एजेंसी को लेकर देश की सियासत गर्माई हुई है. यूपीए सरकार के प्रस्ताव पर अधिकतर राज्य नाक-मुंह सिकोड़े हुए हैं. उनका मानना है कि केंद्र सरकार फेडरल एजेंसी के नाम पर उनके कार्यक्षेत्र में हस्तक्षेप की योजना बना रही है. जबकि असलियत में ऐसा कुछ भी नहीं है. > नीरज नैयर

     


कार्पोरेट घरानों के सहारे उच्च शिक्षा का प्रसार?
च्च शिक्षा के क्षेत्र में कार्पोरेट घरानों के प्रवेश के लिए देश भर में सरकारी स्तर पर रेशमी गलीचे बिछाये जा रहे हैं। उच्चशिक्षा के नियमों और कानूनों को कार्पोरेट घरानों के मनमुताबिक बदला जा रहा है।यह सच है कि आजादी के बाद  > डॉ. सुनील शर्मा


''हमारे मौसम की कुंजी-कार्बन डाइ ऑक्साइड''
कार्बन के एक परमाणु और ऑक्सीजन के दो परमाणुओं से मिल कर बनी कार्बन डाइ ऑक्साइड गैस को ज्यादातर लोग अच्छी निगाहों से नहीं देखते क्योंकि इसे हम साँस के साथ दूषित गैस के रूप में वायुमंडल में छोड़ते हैं। इसे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी माना जाता है। >स्वाति शर्मा


18 अगस्त 2008

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved