संस्करण:  16 अगस्त-2010   

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

फिलहाल गुलगुलों से परहेज करती जेडीयू, का पलड़ा भारी है

हिन्दी में एक पुराना मुहावरा है 'गुड़ खायें, गुलगुलों से परहेज करें''। बिहार में सत्तारूढ जेडी यू, भी इसी रास्ते पर चलती नजर आ रही है। अभी हाल ही में पार्टी कें>वीरेन्द्र जैन

 


 

             आदिवासियों के साथ हुए ऐतिहासिक

अन्याय को दूर करने में गंभीर भूलें हो रही हैं

    दि प्रशासन एवं पुलिस ने अपना रवैया नहीं बदला तो वह दिन दूर नहीं जब छत्तीसगढ़ की तरह मध्यप्रदेश भी नक्सलियों का गढ़ बन जाएगा। इस आशंका व संदेह के संकेत भोपाल में>एलएसहरदेनिया
 


 

              चेहरों से भद्र, जुबान से अभद्र
कड़वे बोल हो गये कुछ नेताओं के शस्त्र
 

 भारत को महान 'यू' ही नहीं कहा जाता। हर क्षेत्र में भारत ने विश्व में अपना परचम फहराया है। कला, साहित्य, संस्कृति, शिक्षा, राजनीति, विज्ञान, आध्यात्म, खेल, आयुर्वेद, योग, उद्योग, व्यवसाय जैसे क्षेत्रों में भारत की संतानों ने फतह पाई है।>राजेंद्र जोशी

 


 

संसद में खुलासा : तीन साल में 1519 मौतें

दवा परीक्षण के लिए गिनीपिग (परीक्षण चूहे) की नियति से कब मुक्ति मिलेगी ?


स्पताल में अपनी बीमारियों के इलाज के लिए पहुंचनेवाले गरीबों के शरीर पर देशी-बहुदेशीय कम्पनियों द्वारा विकसित की जा रही दवाइयों का उनकी जानकारी एवम सहमति के बिना किया गया >सुभाष गाताड़े
 


 जातीय भावना को सरकार ने
    वैध ठहरा दिया ?


  मेठी के पिछौरा गांव के जुनियर हाईस्कूल ने मिड डे मील पर उठी और पूरे सूबे में चर्चा का सबब बनी समस्या का ''समाधान'' निकाल लिया है। तय किया गया है कि दलित रसोइये की भी नियुक्ति होगी लेकिन वह रसोई के बाहर ही काम करेगी>अंजलि सिन्हा
 


 

हिंसक होते अध्यापक

 


 प्र क़े अलीगढ़ जनपद के एक सरकारी प्राथमिक विद्यालय की प्राधानाध्यापिका ने कक्षा तीन में पढ़ने वाली एक बालिका की डन्डे से इतनी पिटाई कर दी कि अगले दिन उसकी मौत हो गई।>सुनील अमर


 

शिक्षा की अनिवार्यता पर प्रश्नचिन्ह

 ध्यप्रदेश में नौकरशाही बेलगाम और भ्रष्ट तो है ही, बेहद लापरवाह भी है। इसका ताज़ा उदाहरण है सर्वशिक्षा अभियान की विफलता। भारत सरकार ने गत वर्ष लोकसभा में बच्चों क>सुनील अमर


 

चीन में दण्ड का भय और आर्थिक विकास

       हाल ही में वैश्विक स्तर पर चीन की सकल घरेलु उत्पाद दर 112 फ़ीसदी हो जाने की खबर आई है। आर्थिक विकास के इस पैमाने पर चीन ने जापान को नीचे के पायदान पर धकेला और अमेरीका के बाद दूसरे नंबर पर जा पहुंचा। चीन में उन्नति की इस गति के  प्रमोद भार्गव


 

एक बार फिर जीएम खाद्य
पदार्थ लाने की तैयार


  खाद्य सुरक्षा के नाम पर एक बार फिर हमारे मुल्क में जीएम फसलों और खाद्य पदार्थों के प्रवेश की तैय्यारियां हैं। जीएम फूड के खिलाफ उठी तमाम आवाजों और पर्यावरण मंत्रालय व जैव तकनीक मंत्रालय के मतभेदों को दरकिनार>जाहिद खान


 

             भविष्य का भारत
युवाओं के सहारे विकास की डोर

र्तमान में भारत की अनुमानित आबादी 122 अरब के लगभग है। इसमें करीब 75 करोड़ लोग 15 से 59 वर्ष आयु वर्ग के होगें। ये सभी लोग देश की कार्यशील जनसंख्या में शामिल हैं,यह आबादी देश की विशाल श्रम शक्ति को भी प्रदर्शित करती है। >डॉ सुनील शर्मा


 

         मानव-स्वास्थ्य के लिए
  चुनौती बने मच्छर


क्या आप विश्वास करेंगे कि हाल के वर्षों में मच्छर जैसे छोटे-'से जीव ने समूची दुनिया को चिंतित कर दिया है ? विश्व स्वास्थ्य संगठन की सन् 2007 की रपट के मुताबिक, विश्व की 40 प्रतिशत आबादी मलेरिया के खतरे से जूझ रही है। इनमें से .>डॉ ग़ीता गुप्त


 

             मैं जानता हूं (आई नो)

मेरे एक बड़े प्यारे मित्र हैं। मित्र ही नहीं रिश्तेदार भी हैं। जरा सी दूर के। पर हैं बड़े प्यारे। देखने में भी और सुनने में भी। उनका एक बड़ा अच्छा सा तकिया कलाम है। आई नो-''यानी मैं जानता हूं'' या 'मुझे मालूम हैं।' वह ख़ूब समझदार पढ़े लिखे हैं। >डॉ देवप्रकाश खन्ना


16 अगस्त-2010   

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved