संस्करण:  15 नवम्बर-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


अपराध जगत और हिन्दुत्व : ये दोस्ती हम कैसे छोडेंगे ?

  किसी ने छब्बीस साला उम्र के सुधाकरराव मराठा उर्फ सुधाकरराव प्रभुणे के बारे में सुना है ? एक कट्टर दक्षिणपंथी अपराधी जिसे पिछले दिनों मध्यप्रदेश पुलिस ने झांसी में गिरतार किया >सुभाष गाताड़े
 


संत संघ और संदेश
  ध्य प्रदेश के इन्दौर शहर से समाचार है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विशाल पथ संचलन और सम्मिलन की अगुआई एक जैन मुनि ने की और उसके बाद  एक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए संघ की प्रशंसा की और उनके गणवेश से चमड़े के बैल्ट और जूतों को बदलने का आवाहन किया।>वीरेंद्र जैन


अनुशासनहीन होती भाजपा

 

 जिस भारतीय जनता पार्टी को अनुशासित और कैडर बेस पार्टी कहा जाता था, वह अब अनुशासन पर ज़ोर दे रही है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा ने होशंगाबाद में हुई कार्यसमिति की बैठक में शिवराज सरकार के मंत्रियों को अनुशासन का पाठ पढ़ाया।>महेश बाग़ी


केन्द्र शासन की नीतियों से विश्व फलक पर चमकता भारत उपलब्धियों पर खम्भा नोंच रहा है विपक्ष

 भारत ने विगत कुछ वर्षों में विश्व फलक पर अपनी जिस तेजी से आर्थिक चमक बनाई है उसमें विश्व की की तमाम वे बड़ी-बड़ी शक्तियां हतप्रभ हो रही हैं,>राजेंद्र जोशी


ओबामा का भारत प्रेम सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली

 वैसे तो अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की हालिया भारत यात्रा (6-9 नवंबर 2010) का विस्तृत मूल्यांकन करने में समय लगेगा परंतु इस समय इतना कहना तर्कसम्मत होगा कि जिस भाषा में ओबामा बोले,>एल.एस.हरदेनिया


संदर्भ : राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण पर्यावरण बचाने की राह में

  र्यावरण सुरक्षा और पर्यावरण संबंधी विवादों को सही समय पर निपटारे के लिए आखिरकार हमारे मुल्क में भी अलग से पर्यावरण अदालत की स्थापना हो गई है।>जाहिद खान


किसानों से दूर होते बैंक

   र्ष 2009-10 में भारतीय बैंकों की प्रगति पर रिर्जव बैंक ऑफ इंडिया की ताजा रिपोर्ट से पता चला है कि सरकारी और निजी क्षेत्र के आधो से ज्यादा बैंक किसानों को कर्ज देनें के मामले में फिसड्डी साबित हुए हैं।>डॉ. सुनील शर्मा


पूल पर चढ़ते रिक्शे !

  हाल में अलीगढ़ में पूल पर चढ़ते समय सवारियों को रिक्शे में बैठे रहने पर पाबन्दी लगा दी गयी है। यदि सवारी पूल की चढ़ाई के समय रिक्शे पर बैठी है तो जुर्माना लग जायेगा। बीमार या विकलांगो का जुर्माने से बचाव है।>अंजलि सिन्हा


जो भी खाएँ, सँभलकर खाएँ


  दीपावली का महापर्व अभी-अभी हमारे सामने से गुजरा। इस दौरान हम सबने अपनी सीमाओं से अधिक सामग्री उदरस्थ की होगी। कुछ लोगों पर इसका गलत असर भी हुआ होगा।>डॉ. महेश परिमल


अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरूपयोग कर रही हैं अंरूधति राय

  बुकर पुरस्कार विजेता प्रख्यात लेखिका अरूंधति राय की विवादास्पद टिप्पणी ने देश में बवाल मचा दिया। दिल्ली में 'आज़ादी-एकमात्र रास्ता' पर सेमिनार में कथित उनके देशविरोधी विचार से सहमत नहीं हुआ जा सकता।> डॉ. गीता गुप्त


पर आखिर पुरूष हैं कहां


  प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से महिलाओं पर हिंसा पुरूषों की सुविधाओं को बरकरार रखने का असरदार हथियार है। हमने यह देखा है कि महज़ हिंसा की धामकी औरतों को चुप्पी साधने या फिर सब बातों को मानने के लिए बाध्य कर देती है।>राखी रघुवंशी


15 नवम्बर-2010 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved