संस्करण: 14  नवम्बर- 2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


तो मुझे बताईये, किसका पतन हो रहा है?

       केन्द्र में यू.पी.ए. सरकार को बदनाम करने, नुकसान पंहुचाने तथा उससे सत्ता छीनने के लिये घरेलू और विदेशी ताकतों द्वारा प्रायोजित अभियान ने दो सिध्दान्तों पर काम किया है:एक यह कि प्रधानमंत्री स्वयं में कोई निर्णय नही ले सकते,उन्हे देश को सुधार के अगले युग में ले जाने से सोनिया गाँधी और समाजसेवी व सिविल सोसायटी पर प्रहार करने वाले उनके लोगों द्वारा रोका जा रहा है। दूसरा यह कि यदि वे ऐसा नही कर रहे है तो यह अवश्य प्रचारित होना चाहिये कि वर्तमान केन्द्र सरकार आजादी के बाद की सबसे ज्यादा भ्रष्ट सरकार है।

  ? बद्री रैना


अन्ना हजारे के आन्दोलन की किश्ती

झूठ के भंवर में है

        न्ना हजारे उलझ गए हैं । अपने ब्लॉगर राजू परुलेकर से पल्ला झाड़ने के चक्कर में  विरोधाभासी बयान दे रहे हैं । कल जब उनसे महाराष्ट्र सदन की प्रेस काफ्रेंस में पूछा गया कि आप अपनी टीम के  कुछ लोगों को निकालना चाहते थे अब क्यों मना कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि उनका ब्लॉग लिखने वाले राजू परुलेकर ने बिना उनकी मंजूरी के यह बात ब्लॉग पर लिख दी थी। उन्होंने कहा कि यह गलत बात है । लेकिन आज जब उनकी हैण्ड राइटिंग में वह सारी बाद पब्लिक डोमेन में आ गयी तो अन्ना हजारे कानूनी दांव पेंच की बात करते नजर आये। 

? शेष नारायण सिंह


आइना देखें अन्ना-आडवाणी और संघ

      हात्मा गांधी के सिध्दांत के सिध्दांतों की दुहाई देकर भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन चला रहे हैं उनकी असलियत यह है कि उनके मंच पर शराब माफिया केसरिया दुपट्टा डालकर ससम्मान विराजते हैं। अपने प्रचार के लिए रुपए बंटवाते हैं,अपने अधिकारों से अधिक धनराशि वसूलकर यात्राएं करते हैं,स्वयं को महान साबित करने के लिए राष्ट्रद्रोह की बातें करते हैं और मौका मिलने पर न केवल भ्रष्टाचार की जड़ों में पानी डालते हैं,बल्कि स्वयं भी भरपूर भ्रष्टाचार करते हैं। भ्रष्टाचार के खिलाफ ऐसी ही लड़ाई में सबसे अधिक उत्साहित हैं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी।

? विवेकानंद


खुद गले-गले तक भ्रष्टाचार में डूबा हुआ संघ परिवार

अन्ना के सहारे सत्ता पर कब्जा करना चाहता है

          ब तो यह पूरी तरह स्पष्ट हो गया है कि अन्ना हजारे का भ्रष्टाचार विरोधी अभियान पूरी तरह से संघ परिवार की बैसाखियों पर चल रहा है। कुछ दिनों पूर्व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक ने कहा था कि अन्ना हजारे के आंदोलन को संघ का मैदानी समर्थन प्राप्त था। उसके अतिरिक्त अभी हाल में भारतीय जनता पार्टी के अधयक्ष नितिन गड़करी ने यह दावा किया कि यदि हमारी पार्टी का समर्थन नहीं होता तो अन्ना का आंदोलन टायं-टायं फिस्स हो जाता। संघ के दावे के संदर्भ में स्वामी रामदेव ने कहा कि यह वास्तविकता है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का हर तरह का सहयोग अन्ना हजारे को प्राप्त था।

? एल.एस.हरदेनिया


और कितने ब्रेविक ?

यूरोप में अतिवादी दक्षिणपंथ का उभार

         तीन माह पहले नार्वे में ब्रेविक नामक दक्षिणपंथी आतंकी ने नार्वे की राजधानी ओस्लो में 76लोगों को मार कर यूरोप में आकार ले रहे नवनात्सी आतंकवाद की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित किया था। फौरी तौर पर यही कहा गया था कि यूरोप में अतिवादी दक्षिणपंथ अभी भी हाशिये पर है। मगर अब तथ्य सामने आ रहे हैं कि हालात ऐसे बन रहे हैं कि अतिवादी दक्षिणपंथ मुख्यधारा का हिस्सा बन रहा है।

 ? सुभाष गाताड़े


मीडिया पर जस्टिस मार्कण्डेय के विचार और घालमेल का संकट

           क बार फिर से आम पढा लिखा व्यक्ति दुविधा में है। वह जब जिस कोण से बात सुनता है उसे उसी की बात सही लगती है और वह समझ नहीं पाता कि सच किस तरफ है। दर असल दोष उसका नहीं है अपितु एक ही नाम से दो भिन्न प्रवृत्तियों को पुकारे जाने से यह भ्रम पैदा होता है।

? वीरेन्द्र जैन


12 वीं पंचवर्षीय योजना का दृष्टिपत्र तैयार

राज्यों को राजनैतिक तालमेल से क्रियान्वयन करना होगा !

       हाल ही में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक में 12वीं पंचवर्षीय योजना के दृष्टिपत्र को मंजूर कर दिया गया। देश के विकास की रूपरेखा निर्धारित करने के उद्देश्य से आहूत इस बैठक में परिषद के सदस्यों,राज्यों के मुख्यमंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों ने शिरकत की। यह परिषद एक ऐसा मंच है जिसकी बैठक का लाभ लेकर राज्यों के विकास में पंचवर्षीय योजनाओं के स्वरूप को नई दृष्टि दी जाती है।

? राजेन्द्र जोशी


अंदरूनी लड़ाई से भाजपा को तीन राज्यों में नुकसान

पंजाब में पार्टी हार का सामना कर सकती है

    श्चिमी भारत के राज्यों में भारतीय जनता पार्टी के तारे गर्दिश में दिखाई पड़ते हैं। पंजाब, जम्मू और कश्मीर व हिमाचल प्रदेश में गुटबाजी ने पार्टी का बुरा हाल कर रखा है। पंजाब में तो पार्टी की हालत बहुत ही खराब है। भाजपा वहां खुद सरकार में है और सरकार की नीतियों के कारण भी उसका शहरी समर्थक वर्ग उससे नाराज चल रहा है। गौरतलब है कि पंजाब और हिमाचल में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं।

 

? बी.के.चम


मेडिकल एसोसिएशन का

यह रवैया ठीक नहीं

     ग्रामीण क्षेत्रों के लिए अलग से प्रशिक्षित डॉक्टर तैयार करने की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की महत्त्वाकांक्षी योजना का डॉक्टरों की संस्था इंडियन मेडिकल एसोशियेशन द्वारा ही विरोध किये जाने के कारण केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद काफी नाराज हैं। उन्होंने कडे शब्दों में एसोशियेशन के इस कृत्य की निंदा की है तथा आरोप लगाया है कि उसके इस अड़ंगेबाजी के कारण न सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों के लोग योग्य चिकित्सकों से वंचित हैं बल्कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के प्रभावी क्रियान्वयन में भी काफी दिक्कतें आ रही हैं।

? सुनील अमर


म.प्र. के किसान-बिजली,बिल और विजिलेंस से परेशान  

    म.प्र. के रायसेन जिले में एक किसान ने 39 हजार रूपये के बिजली बिल से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। बताया जाता है कि गौहरगंज तहसील के सिलानी गॉव का किसान गजराज अचानक मिले बिजली के भारी भरकम बिल से परेशान था,बिल भरने के लिए कहीं से रूपये की व्यवस्था नहीं बन पा रही थी जिसके चलते उसने जहरीला पदार्थ पीकर आत्महत्या कर ली। लेकिन प्रशासन उसे किसान मानने से ही इंकार कर रहा है। इस घटना के दो तीन पूर्व पड़ोसी नरसिंहपुर जिले के तेन्दूखेड़ा गॉव के किसान भीमसेन ने बिजली के खंबे पर चढ़कर अपनी जान दे दी।

 

? डॉ. सुनील शर्मा


धार्मिक स्थलों में भगदड़ के पीछे है भक्तों की आतुरता

     हिंदू मंदिरों में होने वाली भगदड़ के लिए यदि कोई जवाबदार है, तो वह है भक्तों की आतुरता। कहा गया है कि भीड़ के पास ताकत होती है, पर विवेक नहीं होता। भीड़ कभी भी हिंसक हो सकती है। भीड़ कभी दूसरों का विचार नहीं करती। यही कारण है कि जब भी कहीं भीड़ होती है, उसे काबू करना बहुत मुश्किल होता है। भीड़ में जान गँवाने वाले भी कम नहीं होते। देश में हर साल ऐसा कोई न कोई हादसा होता ही है,जिसमें भीड़ के कारण लोग मौत के आगोश में समा जाते हैं। कुंभ मेले में भगदड़ के बाद प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु ने कहा था कि धार्मिक आयोजनों में किसी वीआईपी को नहीं जाना चाहिए।

? डॉ. महेश परिमल


  14  नवम्बर-2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved