संस्करण: 14 फरवरी -2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


आतंक का रंग और
भ्रष्टाचार का रंग

 

  तंक विकृत कहानियां बुनता है-न केवल दहशत, दर्द और सदमे की, बल्कि रहस्यमयी अपराधियों की और हाड़ कंपा देने वाली सनसनी से भरी साजिश, योजना और उनके गठबंधनों की। >अनुराधा भासिन जमवाल


क्या जनसंहार के मास्टरमाइंड
गिरफ्त में आएंगे ?


  भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में मार्च का पहला सप्ताह अहम साबित हो सकता है, बशर्ते मुल्क की आला अदालत 21 वीं सदी की पहली दहाई के सबसे बड़े जनसंहार के मामले में उसके द्वारा गठित >सुभाष गाताड़े


भाजपा की कलाबाजियों से खुलती कलइ

 

  भाजपा को पिछले दो एक महीने से अपने मुद्दों में से सबसे प्रमुख मुद्दे को छोड़ देना पड़ा है और अब उसके लिए आतंकवाद देश की प्रमुख समस्या नहीं रह गयी है और ना ही कुछ दिनों से अफजल को फांसी देन >वीरेन्द्र जैन


मरे मुद्दे और बेलगाम नेता हैं
भाजपा की समस्या

 

  देश का प्रमुख विपक्षी दल और केन्द्र में सत्ता की दावेदार भारतीय जनता पार्टी के दो हालिया प्रकरणों से इसकी सोच और तैयारियों का पता चलता है। एकता, अखंडता और समग्रता की बात >सुनील अमर


मंडला के ईसाई आतंक की छाया में

 

   ध्यप्रदेश के आदिवासी-बहुल मंडला जिले में 11 से 13 फरवरी तक आयोजित हुए ''नर्मदा सामाजिक कुंभ'' से राज्य का ईसाई समुदाय भयभीत व आशंकित है। मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ के कैथोलिक चर्च के प्रवक्ता फॉदर आनंद मुटुंगल ने यह आशंका जाहिर की है >एल.एस.हरदेनिया


खेती की ज़मीन निगलते उद्योग

  इंदौर में एक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में सुप्रीम कोर्ट के ख्यात वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि मध्यप्रदेश में जिस तरह खेती का रकबा कम हो रहा है, उससे भविष्य में भारी संकट आ सकता है। >महेश बाग़ी


भारत भवन की संचालन व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह ?
प्रमुख ट्रस्टी हेमा मालिनी की उपेक्षा से खुली कलई

 

  विविध कलाओं के अंतर्राष्ट्रीय कलाघर भारत भवन की नियति में ही विवाद, विवाद और विवाद है। एक विवाद का जैसे तैसे पटाक्षेप होता है कि कोई न कोई दूसरा विवाद सतह पर आ जाता है। >राजेंद्र जोशी


बुजुर्गो का आशियाना

 

  च्चे जब बडे हो जाय और अपनी घरगृहस्थी बसाने की योजना बनायें तो साथ में अपने घर-मकान के बारे में भी संयोजन करें ताकि यदि वे अकेले या सिर्फ एकल परिवार में रहना चाहे तो कम-से कम किसी को उनको घर से निकालना न पड़े। >अंजलि सिन्हा


दक्षिणी सूडान का उदय और चुनौतियां

 

  दुनिया के सबसे नवीनतम देश के गठन का रास्ता साफ हो गया है। इसी साल 9 जुलाई को उत्तारी सूडान से अलग होकर दक्षिणी सूडान नामक एक नया राष्ट्र बनेगा। >मिथिलेश कुमार


धरती के फेफड़ों की सुरक्षा जरूरी

 

  क तरफ जलवायु परिवर्तन पर विश्वभर के देश आपस में मिल-बैठ कर माथा-पच्ची कर रहे हैं दूसरी तरफ ब्राजील स्थित अमेजन के जंगल जो कि 'धरती के फेफड़े' कहे जाते हैं इसलिए बेदर्दी से प्रहार कर साफ किए जा रहे हैं >शब्बीर कादरी


म.प्र. के किसानों की परेशानी:
आसमानी से ज्यादा सुल्तानी?


 पिछले दो माह से म.प्र. में किसानों की समस्याओं को लेकर काफी हो हल्ला है अपनी बदहाली से त्रस्त किसान जहर गटक रहा है और फॉसी पर लटक रहा है। इस बीच मौसम की मार ने किसान को बर्बाद ही कर डाला है >डॉ. सुनील शर्मा


किसने सुनी उस अजन्मी की सिसकियाँ?

 

  मारे देश के लिए यह गौरव की बात है कि यहाँ वर्ष में दो बार अनिवार्य रूप से देवी की पूजा की जाती है। देवी के नौ रूपों की पूरी श्रध्दा और भक्ति के साथ पूजा की जाती है। >डॉ. महेश परिमल


14 फरवरी -2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved