संस्करण:  11 अक्टूबर-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


अयोध्या विवाद: अन्तरिम फैसला आस्था पर मुहर, कानून को ठोकर !

  स्था बनाम वैज्ञानिक चिन्तन, तर्कबुध्दि के लम्बे समय से चले आ रहे द्वंद से हर संगठित/असंगठित धर्म या उससे जुड़ी संस्थाओं को बार बार रूबरू होना पड़ता है, उलझना पड़ता है।>सुभाष गाताड़े
 


बाबरी-रामजन्म भूमि फैसला: राजनेताओं की मुसीबत

  अंतत: 3 सितंबर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय का फैसला आ ही गया। एक ज़मीन के लिये तीन पक्ष सदियों से लड़ते चले आ रहे थे।>मोकर्रम खान


अयोध्या फैसला कौन कहता है कि कोई जीता हारा नहीं

 लाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा अयोध्या के राम जन्म भूमि- बाबरी मस्जिद विवाद के बारे में साठ साल बाद जो फैसला आया है उसके बारे में बहुत सारे अखबारों, नेताओं, पत्रकारों और>वीरेंद्र जैन


इलाहाबाद हाईकोर्ट का निर्णय गैर-वैज्ञानिक सोच और अंधविश्वास को बढ़ावा देता है

  भारत का संविधान लागू होने के बाद से आज तक न्यायपालिका के किसी निर्णय पर शायद ही इतनी परस्पर विरोधी प्रतिक्रियाएं हुई हों जितनी कि हाल में>एल.एस.हरदेनिया


प्रगतिशीलता के बावजूद ज्यादा अंतर नहीं आया रूढ़ीवादी मानसिकताओं में

 स प्रगतिशील समय में व्याप्त रूढ़ियों और परंपराओं में सुधार लाकर समाज की मानसिकता को बदलने के लिए सरकारी और गैर सरकारी स्तर पर अनेक योजनाऐं और>राजेंद्र जोशी


बोतलबंद पानी का कारोबार


  दुनिया में जैसे-जैसे संपन्नता बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए कारोबार भी शुरू हो रहे हैं। ऐसा ही बोतलबंद पानी का भी कारोबार है।>महेश बाग़ी


पुलिस पर भरोसा कैसे बने ?


   राजस्थान के कोटा जिले के चेचट थाने में महिला कान्स्टेबिल माया यादव के साथ सहकर्मी कान्स्टेबल देशराज द्वारा किए गए बलात्कार और हत्या का मामला अभी उजागर ही हुआ था>अंजलि सिन्हा


भारत में खाद्य सुरक्षा कैसे संभव होगी ?

  संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक इस धरती पर हर छ: आदमी में से एक आदमी अर्थात कुल एक अरब लोग प्रतिदिन भूखे रहते हैं।> डॉ. गीता गुप्त


जैविक खेती का बढ़ता दायरा

  देश में वर्ष 2003-04 में प्रमाणित जैविक खेती का दायरा महज 42 हजार हेक्टेयर तक सीमित था,पर वर्ष 2009-10 में इस ऑकड़ें में 18 गुनी की वृध्दि के साथ>डॉ. सुनील शर्मा


गांधी का पर्याय खादी की देश में दुर्दशा

  भी-अभी हमारी ऑंखों के सामने से गांधी जयंती गुजरी। कई संकल्प याद आए होंगे। कई संकल्पों को पूरा होते देखा भी होगा।> डॉ. महेश परिमल


11 अक्टूबर-2010 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved