संस्करण: 11 जनवरी-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

त्वरित न्याय की सार्थक पहल
 

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने त्वरित न्याय की दिशा में सार्थक पहल की है, जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने कहा है कि यौन उत्पीड़न संबंधी मामलों की सुनवाई दो माह में हो जाना चाहिए, ताकि पीड़ित को समय>महेश बाग़ी


 

आरक्षित सीटों को अनारक्षित करने की
सरकारी कवायद पर मौन कब तक ?


सोहनराम ने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के इन्स्टिटयूट ऑफ टेक्नोलोजी से वर्ष 1979 में बी. टेक. की डिग्री हासिल की। अनुसूचित जाति से सम्बधित सोहन राम, जो वाराणसी के पास के चन्दौली के निवासी थे, उन्होंने अपनी >सुभाष गाताड़े


 

.....पर वैज्ञानिक हैं कहाँ?
 

त दिनों हमारे प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह ने 97वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस के अवसर पर भारतीय वैज्ञानिकों का आवाहन करते हुये कहा कि वे विज्ञान को नौकरशाही और विभिन्न संस्थानों में व्याप्त पक्षपात से मुक्त>वीरेंद्र जैन


 

रंगनाथ आयोग की सिफारिशों पर सावधानी से अमल जरूरी

लिब्रहान आयोग के नतीजों और सिफारिशों पर राष्ट्रव्यापी विवाद अभी जारी ही था कि इस बीच एक और आयोग की सिफारिशों पर गर्मागर्म बहस चालू हो गयी। कुछ वर्ष पूर्व, भारत सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य >एल.एस.हरदेनिया


 

आर्थिक मंदी में घटा तलाक का प्रतिशत
तलाक प्रवृत्ति पर हुए सर्वेक्षण की रिपोर


विगत समय में आई आर्थिक मंदी के दौर में वैश्विक स्तर पर बाजारों पर जिस तरह का प्रभाव पड़ा उसकी चपेट में जन जीवन अछूता नहीं रह पाया। बड़ी-बड़ी हैसियत वाली कंपनियों का जहां बजट डगमगा गया वही उद्योग व्यवसाय>राजेंद्र जोशी


 

परम्परागत ज्ञान का
संरक्षण जरूरी

श्री मनमोहन सिंह जी का मानना है कि नौकरशाही विज्ञान के विकास में बड़ी बाधाक है। वास्तव में प्रधानमंत्री का यह मनन विज्ञान के विकास एवं शिक्षा तथा ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था के विकास के लिये उनकी>डॉ. सुनील शर्मा


 

सरकार जी ! शिक्षकों को शिक्षक ही रहने दे

कुछ समय पूर्व गुरुजी लोगों को नियमितीकरण करने के लिए एक परीक्षा ली गई थी जिसमें अधिकांश गुरुजी अनुत्तीर्ण हो गये। क्या सरकार ने कभी इस पर विचार करने का प्रयास किया कि गुरुजी सरल से प्रश्न भी हल >प्रो.ए.डी. खत्री


 

ग्रामीण अंचलों में
चिकित्सक कैसे उपलब्ध रहेंगे ?


देश की बहुसंख्यक जनता गांवों में निवास करती है। फिर भी ग्रामीण क्षेत्रों और दूरदराज के अंचलों में बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं का घोर अभाव है। चिंताजनक बात यह है कि प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में चिकित्सा-शिक्षा >डॉ. गीता गुप्त


 

स्वास्थ्य की कीमत पर धनोपार्जन,
कितना उचित?

क उद्योगपति की पत्नी बीमार हो गई। हर जगह उसका इलाज करवाया, पर कोई फायदा नहीं हुआ। उद्योगपति पत्नी को खूब चाहता था, पत्नी भी उसे खूब चाहती थी। अंतत: डॉक्टरों ने जवाब दे दिया। स्थिति यह >डॉ. महेश परिमल


 

मानवीय मस्तिष्क और कम्प्यूटर

म्प्यूटर वर्तमान समय की सबसे बड़ी ताकत और आवश्यकता बन कर उभरा है। आज का विश्व अपना अधिकांश कार्य इसी से संपादित और संचालित करता है। इसकी तुलना मानव मस्तिष्क से की जाती है और इसे >डॉ. राजश्री रावत 'राज'


11 जनवरी -2010

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved