संस्करण: 07 मार्च -2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


एक जनाकांक्षा को हथियाता अपात्र नेतृत्व
 

  ज भ्रष्टाचार हमारे देश की प्रमुख समस्याओं में से एक की तरह पहचाना जा रहा है, क्योंकि इसी के कारण हमारी दूसरी प्रमुख जन समस्याओं को हल करने वाली योजनाएं निष्फल होती जा रही हैं। >वीरेंद्र जैन


रामदेव पर कामदेवों के तीर


  राम माधव, हिन्दू पुरूषों के संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्वप्रवक्ता, अपने हास्यबोध के लिए कभी चर्चित नहीं रहे हैं। >मोकर्रम खान


ग़रीब मुख्यमंत्री की अयाशी

 

  ध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हाल ही में दो विरोधाभासी तथ्य नज़र आए। विधानसभा के बजट सत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी संपत्ति का ब्यौरा प्रस्तुत किया, >महेश बाग़ी


राजा भोज के सहारे वोट बैंक बढ़ाने की जुगत में भाजपा

 

  राजा भोज का महिमामंडन और भोपाल का नाम भोजपाल करने की कवायद भारतीय जनता पार्टी के समाज के धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण करने के एजेन्डे का भाग है। >एल.एस.हरदेनिया


आर एस एस ने 1948 में तिरंगे को पैरों तले रौंदा था

 

   श्रीनगर के लाल चौक पर झंडा फहराने की बीजेपी की राजनीति पूरी तरह से उल्टी पड़ चुकी है। बीजेपी की अगुवाई वाले एन डी ए के संयोजक शरद यादव तो पहले ही इस झंडा यात्रा को गलत बता चुके हैं >शेष नारायण सिंह


दान में धनवर्षा !

  क्या आप अन्दाजा लगा सकते है भारतवासी किस काम के लिये इतना बढ़ चढ़ कर चन्दा देंगे की दो घण्टों में ही दो सौ करोड़ की नगद और सोने के रूप में सम्पत्ति जमा हो जाये ? >अंजलि सिन्हा


चतुराई से भरा आम बजट

 

  स्ती लोकप्रियता से दूर यह इतना चतुराई से भरा आम बजट है कि इसमें उन सभी मुद्दों के मुंह मिलने की कोशिश की गई है, जिनके बूते कांग्रेस की प्रतिष्ठा तो दाव पर लगी ही थी >प्रमोद भार्गव


लुप्त हो गया दादी-नानियों का प्रेम

नौनिहालों को नहीं सुनने को मिलती लोरियां

 

  वात्सल्य एक तरह से जीवन की आधार शिला को मजबूत बनाने में तराई का काम करता है। हमारा सामाजिक परिहास बाल अवस्था में ही नौनिहालों को अपनी दादी नानी मां की लोरियों >राजेंद्र जोशी


बाजार पर नियंत्रण से घटेगी मॅहगाई

 

  केन्द्र सरकार के खुसनुमा बजट के बाद भी मंहगाई का डर हावी है। मंहगाई रोकने के उपायों पर विचार करने केन्द्र सरकार द्वारा गठित टास्कफोर्स की रिपोर्ट भी आ गई है। >डॉ. सुनील शर्मा


विखंडित होते समाज के खतरे

 

  बर है कि ताइवान के एक युवा दम्पत्ति को इंटरनेट पर जुआ खेलने की ऐसी लत लग गई कि वे अपने नवजात की देखभाल ही भूल गये और पालने में पड़ी वो एक साल की बच्ची समय पर दूध न पाने की वजह से धीरे-धीरे सूखती हुई मर गयी। >सुनील अमर


महिला सशक्तिकरण में संचार माध्यमों की भूमिका

 

  वैसे तो संचार माध्यम समाज के विकास में बहुत सहायक हैं। परंतु महिला सशक्तिकरण के संदर्भ में बात करते समय संचार माध्यमों की सशक्त भूमिका को सर्वोपरि मानना होगा। >डॉ. गीता गुप्त


मौत का कारण बनते अमेरिकी डॉक्टर

 

  हाल ही में अमेरिका में एक किताब आई है, इस किताब ने डॉक्टरों में हलचल पैदा कर दी है। किताब के लेखक भी एक डॉक्टर ही हैं। अपनी किताब में उन्होंने न केवल डॉक्टरों, बल्कि अमेरिकी सरकार और >डॉ. महेश परिमल


07 मार्च -2011

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved