संस्करण:  06 दिसम्बर-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


हममें से 'देशद्रोही' कौन नहीं है ?


 स्पेक्ट्रम घोटाले के मद्देनज़र प्रिन्ट एवं इलैक्ट्रानिकी मीडिया के सेलेब्रिटी कहे जा सकनेवाले पत्राकारों के कॉर्पोरेट सम्राटों के दलालों में होते रूपान्तरण की चर्चाओं के बीच राजधानी से निकलनेवाले एक दूसरे साप्ताहिक 'तहलका' की एक युवा पत्रकार>सुभाष गाताड़े


बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम
मूल्यांकन इस पहलू से भी


 लोकतंत्र में जब सत्ता की राजनीति हावी होने लगती है तब केवल चुनाव परिणाम ही देखे जाते हैं। गत बिहार विधानसभा चुनाव परिणामों पर प्रतिक्रिया देते समय पूरे मीडिया ने >वीरेंद्र जैन


क्या कूटनीतिज्ञों का गुप्तचर और पत्रकारों का बिचौलिया बनना उचित है?

 

  स समय हमारे देश में और विश्व की अनेक राजधानियों में इस प्रश्न पर बहस जारी है कि क्या कोई व्यक्ति, अपने व्यवसाय का दुरूपयोग किसी अन्य व्यक्ति को लाभ पहुचाने या >एल.एस.हरदेनिया


हम पियें तो पुण्य, वो पियें तो पाप
राजनीति का यही है मंत्र-जाप
 

  रस्पर आरोप-प्रत्यारोपों की चहुंओर काली घटाएं छाई हुई हैं। आरोपों की हवाओं के तीव्र झोंके अलग-अलग दिशाओं से उठ उठकर संपूर्ण परिवेश को झकझोर रहे हैं।>राजेंद्र जोशी


मध्यप्रदेश में हावी खनिज माफिया

 

 धय प्रदेश में खनिज माफिया जम कर चांदी कांट रहे हैं। पूरे प्रदेश में चारों ओर खनिज संपदा लूटी जा रही है। सत्ता साकेत में बैठे राजनेताओं के रिश्तेदारों को तो जैसे लूट की खूली छूट दे दी गई है।>महेश बाग़ी


गौरव दिवस ने छीना शिक्षा का अधिकार
 

 ''मधयप्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में पहले की तुलना में बेहतर कार्य हुआ है,इस क्षैत्र में अभी बहुत सुधार की जरूरत है।'' मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने कार्यकाल के पॉच वर्ष पूर्ण होने पर जब मीडिया के लिए उक्त आशय के बयान दे रहे थ>अमिताभ पाण्डेय


जस्टिस रंगनाथ मिश्रा आयोग की अल्पसंख्यकों को आरक्षण की सिफारिश एक धोखा पसमान्दा समाज मुल्क में सियासी जरूरत बनें-कुरैशी

 भारतीय संविधान में धार्म के आधार पर आरक्षण की कोई व्यवस्था नहीं है। यही कारण है कि कई राज्य सरकारों ने महज राजनैतिक लाभ के लिए अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को आरक्षण दिये ।>मो. इब्राहीम कुरैशी


समाजवादी पार्टी और मुस्लिम मतदाता

 

 समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक रहे श्री मोहम्मद आज़म खाँ को लगभग डेढ़ वर्षों के निष्कासन के बाद पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने वापस ले लिया है।।>सुनील अमर


तेजाब हमले पर नयी रणनीति

 

 हिंसा के इस बेहद गम्भीर और क्रूर स्वरूप पर केन्द्र सरकार ने अपनी संवेदनशीलता और प्रतिबध्दता फिर से दरर्शायी है। पिछले कई वर्षों से यह मुद्दा चर्चा के केन्द्र में रहा है कि ।>अंजलि सिन्हा


मानवाधिकार दिवस 10 दिस.
मानवाधिकारों से दूर मजदूरों की बदहाल जिंदगी
 

 

 रात्रि के ग्यारह बजे के आसपास पुलिस आकर रेल्वे स्टेशन के बाहर मैदान में सोये हुए लोगों पर डंडे फटकारने लगती है। डंडे की मार से नींद भरे कराहते लोगों में भगदड़ सी मच जाती है।>डॉ. सुनील शर्मा


10 दिसम्बर मानवाधिकार दिवस पर विशेष
अब तक मानवाधिकार से वंचित है स्त्री

 

  क्कीसवीं सदी में प्रवेश के बावजूद आज भी भारतीय स्त्रियां मानवाधिकार की प्राप्ति हेतु संघर्षरत हैं, यह दु:खद सत्य है। मानवाधिकार से तात्पर्य उन अधिकारों से है जो हर व्यक्ति ।>डॉ. गीता गुप्त


06 दिसम्बर-2010 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved