संस्करण: 05 अप्रेल-2010  

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

और अन्त में बालमुकुन्द ?

 

 स्मानिया विश्वविद्यालय, हैद्राबाद के त्रिवेणी छात्रावास में रहनेवाले दो दर्जन से अधिक अनुसचित जाति एवम जनजाति के विद्यार्थियों द्वारा आंध्र प्रदेश के मानवाधिकार आयोग को हयूमन राइटस प्रोटेक्शन एक्ट 1995 के>सुभाष गाताड़े


 

आंध्र प्रदेश में मुस्लिम आरक्षण,
धार्मिक आधार पर नहीं

 

''आंध्र प्रदेश में मुस्लिम आरक्षण, धार्मिक आधार पर नहीं, बल्कि सामाजिक और शैक्षणिक आधार पर है। लिहाजा, उन्हें महज मुसलमान होने के चलते आरक्षण से वंचित नहीं किया जा सकता।'' हमारे मुल्क की सबसे बड़ी>जाहिद खान


 

साहित्य और संस्कृति का
राजनीतिकरण

 

जो काम सत्ताओं में पहले कभी दबे-कुचे हुआ करता था, अब तो खुलेआम सत्ताऐं साहित्य, कला और संस्कृति का राजनीतिकरण करती हुई दिखाई देने लग गई हैं। सत्ताधीशों द्वारा चीख-चीख कर भाषण दिए जाते हैं कि>राजेंद्र जोशी


 

ऊर्जा क्षेत्र में पिछड़ता मध्यप्रदेश

 

गभग साढ़े छह साल पूर्व सत्ता पाने के लिए भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में वादा किया था कि प्रदेश का बिजली संकट सौ दिनों में दूर कर दिया जाएगा। पूरे पांच साल तक सत्ता में रहने के बावजूद भाजपा सरकार>महेश बाग़ी


नरेन्द्र मोदी : शैतान दे रहा है
धर्मग्रंथों की दुहाई!

 

    "मरी खाल के आह से लोह भस्म हो जाये" सदियो पुरानी यह कहावत राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ के दो बडे स्वयंसेवको पर पुरी तरह से लागु हो रही है। ये दो स्वयंसेवक है लालकॄष्ण आडवाणी एवं नरेन्द्र मोदी | मैं>एल एस हरदेनिया


 

लिवइन के फैसले पर फैलते फालतू लोग

लिव इन संबंधी एक रिट याचिका पर आये अदालती फैसले पर एक वर्ग बहुत नाक भों सिकोड़ रहा है। पर साथ ही उसे यह अहसास भी है कि एकल परिवारों में बँट चुके समाज में किसी की व्यक्तिगत स्वतंत्रता में दखल देने>वीरेंद्र जैन


 

सहजीवन का प्रश्न :
नैतिकता की कसौटी क्या बनाएं !


हाल में सुप्रीम कोर्ट ने नैतिकता और विवाहपूर्व यौन सम्बंध पर अपने विचार व्यक्त किए हैं।
दक्षिण की अभिनेत्री खुशबू की विशेष याचिका पर सुनवाई चल रही थी जिसमें मुख्य न्यायाधीश के ज़ी बालाकृष्णन्,
>अंजलि सिन्हा


 

 

गांवों में डक्टरों
का सपना


  केंद्र सरकार ने एक ऐसे शार्ट टर्म कोर्स लाइसेंसिएट मेडिकल प्रैक्टिसनर (एलएमपी) की योजना का प्रस्ताव तैयार किया है जिससे ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं की व्याप्त समस्याओं का हल खोजा जा सके। सरकार ने शहरों और>मिथिलेश कुमार


 

कुपोषण रोकने के लिए, विकल्प खोजें

     खुली अर्थव्यवस्था, बाजारवाद और नव उपभोक्तावाद की चकाचौंध में कई मूलभूत समस्याएं सरकारी फाइलों में, नेताओं के झूठे वादों में और समाज के बदलते दॄष्टिकोण के चलते दबकर रह जाती हैं। गरीबी, बदतर स्वास्थ्य सेवाएं>राखी रघुवंशी


 

मरती मिट्टी को बचाओ

जिस प्रकार मानव और अन्य सजीवों को भोजन की आवश्यकता होती है उसी प्रकार वनस्पति एवं फसलों को भी भोजन की आवश्यकता होती है। मनुष्य एवं अन्य सजीव अपना आहार ठोस एवं द्रव दोनो रूपों में ले>डॉ सुनील शर्मा


 

हरित क्रांति से कैंसरग्रस्त हुए पंजाबी पुत्तर

    क्या आपको पता है कि हमारे देश में एक ट्रेन ऐसी भी चलती है, जिसका नाम 'कैंसर एक्सप्रेस' है? सुनने में यह बात हतप्रभ करने वाली है, पर यह सच है, भले ही इस ट्रेन का नाम कुछ और हो, पर लोग उसे इसी नाम से>डॉ महेश परिमल


 

7 अप्रैल विश्व स्वास्थ्य दिवस पर विशेष
कैसे बनेगा ? स्वस्थ और खुशहाल भारत

हा जाता है-एक तन्दुरुस्ती हज़ार नियामत। उत्तम स्वास्थ्य सुखमय जीवन का आधार है। लेकिन हर वर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी रपटों से ज्ञात होता है कि समूची दुनिया के लोग कितनी तेज़ी से अनेक>डॉ ग़ीता गुप्त

05 अप्रेल -2010

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved