संस्करण: 04 जनवरी-2010

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


 

'पेड न्यूज-' मीडिया की शुचिता पर उठते सवाल
एडिटर्स गिल्ड ने जताई चिंता


न्यूज भी अब पेड होने लगी है। यह खबर सचमुच ही प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले मीडिया की शुचिता पर प्रश्नचिन्ह लगाने वाली है। अभी तक तो भ्रष्टाचार और आर्थिक अपराधो के कारण कार्यपालिका, न्यायपालिका>राजेंद्र जोशी


 

शिव सरकार का काग़जी विकास

ध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की जनता को 'स्वर्णिम मध्यप्रदेश' के सपने दिखा रहे हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि उनके कार्यकाल में मध्यप्रदेश निरंतर रसातल में जा रहा है। हाल ही में केंद्र सरकार की >महेश बाग़ी


 

राजनीतिज्ञो और नौकरशाहो के
बदबूदार चेहरे उजागर

 

र्ष 2009, जाते जाते, राजनीतिज्ञों और नौकरशाहों का बहुत ही बदसूरत चेहरा हमें दिखा गया। जहां तक राजनीतिज्ञों का सवाल है, उनका बदबूदार चेहरा हरियाणा, झारखंड़ और आंध्ररप्रदेश में देखने को मिला । हरियाणा>एल.एस.हरदेनिया


 

गरीबी की आंकड़ेबाजी
और राजनीति


क अखबार के कार्यालय में मेरा मित्र एक तस्वीर को बड़े चाव से देख रहा था। 'इस तस्वीर में एक बालक अपना मरियल शरीर लिए घुटनों में सिर दबाए बैठा था। शरीर की उभ्री हुईं हड्डियां चमड़ी से बाहर निकलने को जोर >अनिल चौधरी


 

ग्लोबल वार्मिंग का शिकार बना चेरापूंजी

कुछ वक्त पहले तक अगर किसी बच्चे से सर्वाधिक वर्षा वाली जगह का नाम पूछा जाता तो निश्चित ही उसका जवाब चेरापूंजी होता, अब भी बहुत से लोग चेरापूंजी को इसी नजरीए से देखते होंगे. जिस तरह क्रिकेट में>नीरज नैयर


04 जनवर-2010

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved