संस्करण: 03 जनवरी -2011

CLICK HERE TO DOWNLOAD HINDI FONT


क्या हम जल्द ही एक प्रभावहीन सूचना
अधिकार कानून से रूबरू होंगे ?

 


  ''आप को निर्देश दिया जाता है कि आप प्रस्तुत आयोग के सामने हाजिर हों.. आप को यह चेतावनी भी दी जाती है कि अगर आप ने विशेष ध्यान रखे बगैर तारीख पर उपस्थित होने का कष्ट नहीं किया तो शिकायत पर आप की गैरमौजूदगी में निर्णय लिया जाएगा।'' >सुभाष गाताड़े


प्रेमजी की चैरिटी


 सॉफ्टवेयर कम्पनी विप्रो के संस्थापक और मालिक अजीम प्रेमजी के नाम के चर्चे गली-गली में है। हम अचानक इस बात से रूबरू हो रहे हैं कि उनमें कितना बड़प्पन है, वे कितने विशाल और साथ में दयालू हृदय व्यक्ति हैं और हो सकता है >अंजलि सिन्हा


बिहार में विधायक निधि की समाप्ति
ये फैसला जेडीयू, का है या एनडीए का
 

 

   बिहार में नितीश कुमार ने सत्ता में वापिस लौटते ही चुनावों के दौरान किये गये वादे के अनुसार विधायक निधि समाप्त करने का फैसला ले लिया। इस क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार को देखते हुए इस फैसले की व्यापक सराहना हुयी है। >वीरेंद्र जैन


भ्रष्टाचार को समर्थन
 

 

   संभवत: मध्यप्रदेश देश का एक ऐसा प्रदेश है, जहां भ्रष्टाचार को सरकार का खुला समर्थन मिल रहा है। हाल ही में इसकी बानगी सार्वजनिक तौर पर देखने को भी मिली। अवसर था राज्य सरकार की अटल बाल आरोग्य योजना के>महेश बाग़ी


वैज्ञानिक समझ और धर्मनिरपेक्षता की नींव मजबूत करना
कांग्रेस का ऐतिहासिक उत्तरदायित्व
 

 

  कांग्रेस 125 वर्ष की हो गई है। देश की सबसे पुरानी और देश के हर हिस्से में प्रभाव रखने वाली  इस पार्टी के लिए आज धर्म और विज्ञान के पारस्परिक संबंधों पर विचार करना आवश्यक हो गया है। इस समय ऐसी ताकतें सक्रिय हैं >एल.एस.हरदेनिया


सियासत के पाक दामन पर
कालिख है साम्प्रदायिकता
 


 ह समय अब गुजर गया जब सियासत एक पावन-कर्म थी। सियासत से जुड़े प्रत्येक कार्यकर्ता में राष्ट्रीय भावना के दर्शन होते थे। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश में प्रजातांत्रिक प्रणाली का उदय हुआ और जिसर तरह की संवैधानिक प्रक्रिया ने स्वरूप ग्रहण किया>राजेंद्र जोशी


सुलगता सवाल सर्दी का

 

 त्तर भारत में पड़ रही कड़कड़ाती ठंड के बीच रैन बसेरों को गिराए जाने की खबरों का स्वत: संज्ञान लेते हुए हमारे मुल्क की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट ने अभी हाल ही में सरकार को जो निर्देश दिए हैं, वह निश्चित ही स्वागत योग्य हैं। >जाहिद खान


देश का उर्जा घर-गाय

 

 र्थशास्त्रियों के अनुसार यदि एक बैरल कच्चे तेल की कीमत में एक डालर की वृद्वि होती है तो भारत के तेल आयात बिल में 425 मिलियन डॉलर का अतिरिक्त व्यय जुड़ जाता है अर्थात तेल की कीमतों में वृध्दि का सीधा असर हमारे मुद्रा भण्डार पर पड़ता है।>डॉ. सुनील शर्मा


दण्ड का भय और भ्रष्टाचार
 

 

 भ्रष्टाचार के मामलों में भ्रष्टाचारी के कठोर दण्ड देने और भ्रष्टाचार से अर्जित संपत्ति को जब्त करने की जो शुरूआत हुई है, कालांतर में उसके फलित शुभ संकेत देने वाले होंगे, ऐसी उम्मीद जताई जा सकती है। >प्रमोद भार्गव


03 जनवर-2011 

Designed by-PS Associates
Copyright 2007 PS Associates All Rights Reserved